अंग्रेजी साहित्य के लिए पहला ज्ञानपीठ पुरस्कार




नई दिल्ली : अंग्रेजी के मशहूर लेखक अमिताव घोष (62) को वर्ष 2018 के लिए 54वां ज्ञानपीठ पुरस्कार दिया जाएगा।

ज्ञानपीठ से सम्मानित होने वाले वह अंग्रेजी के पहले लेखक हैं।

शुक्रवार को प्रतिभा रॉय की अध्यक्षता में हुई ज्ञानपीठ चयन समिति की बैठक में उन्हें पुरस्कार देने का निर्णय लिया गया। अंग्रेजी को तीन साल पहले ज्ञानपीठ पुरस्कार की भाषा के रूप में शामिल किया गया था।

कोलकाता में 1956 में जन्मे अमिताव अपने पहले उपन्यास ‘द सर्कल ऑफ रीजन’ से चर्चा में आए थे। उनकी प्रमुख रचनाओं में शैडो लाइंस, द कलकत्ता क्रोमोसोम, द ग्लास पैलेस, द हंगरी टाइड, रिवर ऑफ स्मोक शामिल हैं।

Liked it? Take a second to support द मॉर्निंग क्रॉनिकल हिंदी टीम on Patreon!