बिहार: पीएमसीएच में डेंगू मरीजों से मिलने गए केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे का युवक ने किया मुंह काला




बिहार की राजधानी पटना स्थित पीएमसीएच में डेंगू मरीजों से मिलने पहुंचे केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे को मरीज़ों के परिजन का गुस्सा भुगतना पड़ा। केंद्रीय मंत्री जब मरीजों से मिलकर अस्पताल से बाहर निकल रहे थे, तभी गेट के पास एक युवक मंत्री के चेहरे पर काली स्याही फेंक कर भाग निकला।

केंद्रीय मंत्री मीडिया से बातचीत कर रहे थे, तभी एक युवक मंत्री के करीब आया और काली स्याही को उनके चेहरे और उनकी गाड़ी पर फेंककर भाग गया। मंत्री और सुरक्षाकर्मी जब तक उसे पकड़ने के लिए कोई कदम उठाते वह तेज रफ्तार से भाग खड़ा हुआ। सुरक्षाकर्मियों ने उसे दौड़कर पकड़ना चाहा, लेकिन युवक तब तक उनकी पहुंच से दूर जा चुका था।

बिहार में अव्यवस्था को लेकर जनता में भारी रोष है. जल जमाव के कारण दशहरा के अवसर पर त्यौहार मनाने को लेकर भी कई विध्न का जनता को सामना करना पड़ा. बिहार के पटना में डेंगू भी महामारी का रूप ले चूका है. केवल पटना में निजी अस्पताल समेत 1500 से अधिक डेंगू के मरीज़ पाए गए हैं. सरकारी अस्पतालों का बहुत बुरा हाल है. प्लेटलेट की व्यवस्था या तो बहुत महंगी है या फिर उपलब्ध ही नहीं है. पीएमसीएच में जमीन पर मरीज़ अपना इलाज करने को लेकर मजबूर हैं.

अश्विनी चौबे ने घटना को लेकर अपनी नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि ये उन लोगों का काम है जो गंदी राजनीति करते हैं। पता नहीं, उन्हें इससे क्या मिलेगा? मंत्री का इशारा जन अधिकार पार्टी के अध्यक्ष पप्पू यादव की तरफ था।

लोगों में इतना गुस्सा है कि कुम्हरार के भाजपा विधायक अरुण कुमार सिन्हा की क्षेत्र में जल जमाव के दौरान गैर हाज़री रहने के कारण स्थानीय लोगों ने उनका तेरहवां का आयोजन का भी आह्वान किया था. उन्हें गालियाँ भी दी जा रही थी.

केंद्रीय मंत्री पर काली स्याही फेंकने वाले युवक ने एक निजी चैनल को अपना नाम निशांत झा बताया है और कहा है कि वह जनअधिकार पार्टी (जाप) का युवा प्रदेश सचिव है। उसने कहा कि वह जलजमाव से लोगों की परेशानी देखकर परेशान था, इसलिए गुस्से में आकर मंत्री पर स्याही पर फेंकी। उसने कहा है कि यह उसने स्वंय किया है, उसे किसी ने यह करने के लिए नहीं उकसाया था।

Liked it? Take a second to support द मॉर्निंग क्रॉनिकल हिंदी टीम on Patreon!




Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*