बिहार के मजदूरों पर गुजरात में हो रहे हमले




गुजरात के साबरकांठा जिले के हिम्मतनगर गाभांई में 14 महीने की मासूम के साथ घिनौनी वारदात के सामने आने के बाद बिहारियों पर लगातार हमले हो रहे हैं। कई बिहारियों के आवास तोड़ दिए गए हैं और उनके साथ मारपीट की जा रही है।

गुजरात में बीते पांच दिनों से स्थानीय लोग बिहारी मजदूरों को अपना निशाना बना रहे हैं। लोगों के आक्रोश को देखते हुए कई मजदूर वहां से बिहार लौटने लगे हैं। मजदूरों ने कहा कि उनके पास भोजन और किराये के लिए पैसे नहीं हैं। कॉलोनी से बाहर निकलने पर हमले हो रहे हैं। यूपी और बिहार के लोगों को निशाना बनाने के आरोप में गांधीनगर, अहमदाबाद, सबरकांठा, पाटन और मेहसाणा जिले से लगगभ 180 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

उधर, मजदूरों ने मुख्यमंत्री कार्यालय से भी संपर्क कर घर वापसी की गुहार लगाई। एसडीएम घनश्याम मीना ने बताया कि गुजरात के जिला प्रशासन से संपर्क साधा गया है। मजदूरों की सकुशल वापसी की व्यवस्था की जा रही है।

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के अनुसार, बस का ही इंतजार कर रही मध्य प्रदेश के भिंड की राजकुमारी जाटव ने बताया कि उनके बच्‍चे गली में बाहर खेल रहे थे जब भीड़ ने हमला किया। उन्होंने बताया कि वे अभी तक सदमे में हैं। वह अपने चार साल के बच्‍चे को डॉक्‍टर के पास ले गई ताकि वह शांत हो जाए। राजकुमारी के तीन बच्‍चे और उनके पति अहमदाबाद के चांदलोदिया इलाके में स्थित प्रवासियों की कॉलोनी, महादेव नगर में रहते हैं। उन्होंने बताया कि उनके कई पड़ोसी भी राज्‍य छोड़कर जा रहे हैं… कई तो जा चुके हैं।

वहां फंसे मजदूरों में अधिकतर तिरहुत प्रमंडल स्थित पश्चिम चंपारण के बगहा, नरकटियांगज, बेतिया, रामनगर समेत अन्य शहरों के हैं।

Liked it? Take a second to support द मॉर्निंग क्रॉनिकल हिंदी टीम on Patreon!




Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*