गुजरात में राहुल गांधी पर हमला




राहुल की गाड़ी के टूटे हुए शीशे (फ़ोटो साभार: Twitter)

“हम “नरेंद्र मोदी के नारे, काले झंडे और पत्थर बाज़ी से पीछे नहीं हटने वाले, हम लोगों की सहायता करने के लिए अपनी पूरी ताक़त लगा देंगे.”: राहुल गांधी

गुजरात: राजनैतिक विद्वेष में, कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को निशाना बनाने के उद्देश्य से उनकी कार पर उस समय पत्थर फेंके गए जब वह आज शुक्रवार को राजस्थान के बाढ़-प्रभावित इलाक़े का दौरा करने के बाद गुजरात के बाढ़-प्रभावित बनासकांठा ज़िले का दौरा कर रहे थे. इस हमले में उनकी गाड़ी के पीछे के शीशे टूट गए लेकिन राहुल गांधी को उनके आगे की सीट पर बैठे होने के कारण कोई चोट नहीं आई. राहुल गांधी की गाड़ी में पीछे की सीट पर बैठे एसपीजी कमांडो को चोट आने की खबर प्राप्त हुई है.

गाँधी आज उत्तरी गुजरात के बाढ़-प्रभावित क्षेत्रों के एक दिन के दौरे पर थे. वह राजस्थान के बाढ़-प्रभावित क्षेत्रों का दौरा करने के बाद सीधे हवाई मार्ग से धनेरा पहुंचे थे. वह मनोतरा और आस पास के गाँव के लोगों से बात-चीत करने के बाद किसानों और व्यपारियों से मिलने के लिए शहर के कृषि उत्पाद बाज़ार की तरफ बढे. राहुल के घनेरा के लाल चौक पर पहुँचते ही वहां भीड़ ने उन्हें काला झंडा दिखाते हुए प्रधान मन्त्री मोदी के समर्थन में नारे लगाना शुरू कर दिया.

NDTV के अनुसार, कांग्रेस उपाध्यक्ष लाल चौक में एक जनसभा को संबोधित करने वाले थे, लेकिन लोगों के विरोध के कारण इस कार्यक्रम को टालना पड़ा. पुलिस ने भीड़ को तितर-बितर करने के लिए लाठीचार्ज किया, जिसके बाद राहुल वहां से निकले. यहां तक कि जब उनकी कार जाने लगी तो लोगों ने उनके काफिले पर पानी के थैले फेंके. बाद में वह बनासकांठा जिले के बाढ़ प्रभावित गांवों के दौरे के लिए आगे बढ़े. जब वह धानेरा हेलीपैड जा रहे थे तो उनकी कार पर पथराव हुआ, जिसमें खिड़कियों के शीशे टूट गए.

राहुल गांधी ने पहले ट्विटर और फिर बाद में कुछ चैनलों पर नरेंद्र मोदी और निशाना बनाते हुए कहा कि “हम “नरेंद्र मोदी के नारे, काले झंडे और पत्थर बाज़ी से पीछे नहीं हटने वाले, हम लोगों की सहायता करने के लिए अपनी पूरी ताक़त लगा देंगे.”

उन्होंने महात्मा गांधी का ज़िक्र करते हुए अपने ट्वीट में कहा कि “जो सत्य को पहचानता है, जो सच को समझता है उसे डरने की कोई ज़रुरत नहीं है, महात्मा गांधी ने हमें यही सिखाया है”

 

Liked it? Take a second to support द मॉर्निंग क्रॉनिकल हिंदी टीम on Patreon!