गोकशी के पीछे कोई षड्यंत्र तो नहीं…?




नई दिल्ली: बुलंदशहर में तब्लीगी इज्तमा के दिन गोकशी पर बवाल कराना एक बड़ी साजिश हो सकती है। पुलिस-प्रशासन के अधिकारियों की जांच में ये बात सामने आई है।

अधिकारियों का कहना है कि जब वे मौके पर पहुंचे तो खेत में दिखावे के लिए गाय के अवशेष जगह-जगह लटका रखे थे। ऐसा लग रहा था जैसे कोई माहौल को भड़काने की साजिश रच रहा है।

महाव गांव में घटनास्स्थल पर पहुंचने वालों में सबसे पहले प्रशासनिक अधिकारियों में स्याना तहसीलदार राजकुमार भास्कर थे। उनका कहना है कि ईख के कई खेतों में गोवंश कटान कर रखा था। गाय के सिर और खाल आदि अवशेष गन्ने पर लटका रखे थे जो दूर से ही दिख रहे थे।



उनका कहना है कि यदि कोई व्यक्ति गोकशी करेगा तो वह अवशेषों को इस तरह से नहीं लटकाएगा। आरोपी यही चाहेगा कि किसी को इस बात का पता नहीं चले। ऐसे में अधिक संभावना यही है कि सिर्फ माहौल को भड़काने के लिए गोकशी की गई हो।

तहसीलदार ने बताया कि भीड़ में शामिल कुछ लोगों ने गाय के अवशेष ट्रैक्टर-ट्रॉली में भर लिए। वे ट्रैक्टर-ट्रॉली को बुलंदशहर-गढ़मुक्तेश्वर स्टेट हाईवे की तरफ ले जाना चाह रहे थे।

(साभार हिंदुस्तान लाइव)

Liked it? Take a second to support द मॉर्निंग क्रॉनिकल हिंदी टीम on Patreon!