ओपिनियन

ऐतिहासिक तथ्यों से छेड़छाड़ : कलाकारों के लिए चुनौती भरा समय

–अमूल्य गांगुली  नई दिल्ली, 19 नवंबर | हिन्दी सिनेमा ‘पद्मावती’ की रिलीज पर विवाद की जड़ में सबसे पहले तो भगवा ध्वजवाहक हैं जो मुस्लिम विरोधी पूर्वाग्रह के साथ इतिहास की विवेचना करते हैं। दूसरा […]

ओपिनियन

अकबर इलाहाबादी : शायरी में व्यंग्य की धार ही पहचान (जन्मदिन : 16 नवंबर)

–जितेंद्र गुप्ता   नई दिल्ली, 16 नवंबर | सैयद अकबर हुसैन रिजवी के नाम से लोग भले ही परिचित न हों, लेकिन ‘अकबर इलाहाबादी’ का नाम सुनते ही लोगों के दिलों में गजलों और शायरी का […]

अन्य

लोकप्रियता के शिखर पर पहुंची उपेक्षित खिचड़ी

-रीतू तोमर  नई दिल्ली, 5 नवंबर (आईएएनएस)| खिचड़ी का नाम सुनकर अब नाक-भौंह सिकोड़ने की आदत बदलनी पड़ेगी, क्योंकि खिचड़ी विश्व रिकॉर्ड बनाकर गिनीज बुक में नाम दर्ज करा चुकी है। सरकार इसे राष्ट्रीय आहार […]

ओपिनियन

हिंदी फिल्मों में राष्ट्रवाद का विकास

प्रियदर्शी दत्त  पिछले 70 वर्षो में हिंदी की अनेक यादगार फिल्मों ने लोगों में देशभक्ति भाव, शौर्य और देश के लिए बलिदान का भाव भरा है। फिल्मों के विषय स्वतंत्रता संघर्ष, आक्रमण और युद्ध, खेल, […]

ओपिनियन

बिहार के शह और मात के खेल में जनता ही मात खाती रही है

राजनीति में आज नीतीश कुमार एक गन्दा आदमी कहे जा रहे है। बहुत लोग मेरी इस धरणा से आपत्ति करेंगे। हालांकि नीतीश समर्थक जनता को भी पिछले दिनों उनके शासकीय समीकरण बदलने का खेल गन्दा […]

ओपिनियन

बिहार के विकास का सच। तेज़ विकास दर के लिए सत्ता की भागीदारी नहीं सत्ता की ईमानदारी ज़रूरी

मुख्य मंत्री और उप-मुख्य मंत्री बनने के बाद नीतीश कुमार और सुशील कुमार मोदी ने बारी बारी से यह दावा किया कि बिहार तेज़ी से विकास की ओर अग्रसर होगा और उन्होंने बताया कि ऐसा […]

ओपिनियन

नितीश कुमार का इस्तीफ़ा महज राजनैतिक पैतरा

नितीश कुमार का इस बार का इस्तीफ़ा भी पिछली बार की तरह पाला बदलने का इनका एक पैतरा ही साबित होने जा रहा है। नितीश कुमार ने बुधवार शाम को लगभग 6:30 बजे राज्यपाल को […]