बिहार: रोहतास के एक दशक का डरावना आपराधिक इतिहास, जहाँ 301 महिलाओं की लूटी आबरू




फ़हमीना हुसैन, The Morning Chronicle 

रोहतास का एक दशक का आपराधिक इतिहास देखें तो बहुत ही डरावना रहा है। जहाँ इन एक दशक में जिले में करीब 1189 लोगों को मौत के घात उतार दिया गया। हालांकि इन में नक्सली हमला के दौरान हुई मौतों का आंकड़ा भी शामिल है।

इतना ही नहीं इस पुरे दशक में महिला आपराधिक मामले की बात करें तो वो नहीं हैरान करने वाले आकड़ें दर्शातें हैं। इस दौरान 301 महिलाओं के साथ बलात्कार की घटनाएं शामिल हैं। सबसे हैरानी की बात हैं पुलिस चौकसी के बावजूद जिले में चोरी की घटनाओं में कोई कमी नहीं है।

जिले के सरकारी आकड़ों की बात करें तो साल 2008 में 458 चोरी घटनाओं में मामले दर्ज़ हुए थें जो साल 2017 में 1108 हो गए। वहीँ केवल इस साल यानी 2018 की बात करें तो इन आठ महीनो में 776 मामले दर्ज़ हुए हैं।

वहीँ जिला मुख्यालय से प्राप्त आकड़ों की बात करें तो इस साल जिले के अलग-अलग थानों में कुल 2274 आपराधिक मामलों को दर्ज़ कराया गया है। हालांकि बिहार पुलिस वेबसाइट पर उपलब्ध आकड़ों के अनुसार साल 2008 से अगस्त 2018 के बीच जिले में कुल 1601 लोगों का अपहरण किया गया।

आकड़ों की माने तो 20 लोगों लोगों का अपहरण फिरौती के लिए किया गया था। जिनमें शेष लोगों के अपहरण के पीछे अन्य कारण रहे थें।

इतना ही नहीं रोहतास जिले में बिहार का शांत जिला मामने वाले के लिए भी ये आकड़ें चौकाने के लिए काफी है। पिछले एक दशक में जिले में दंगा की बात करें तो 2875 मामले दर्ज़ किये गए हैं।

Liked it? Take a second to support द मॉर्निंग क्रॉनिकल हिंदी टीम on Patreon!