झारखंड: लातेहार में भूख के कारण वृद्ध की मौत! तीन महीने से नहीं मिला था राशन




रामचरण मुंडा का परिवार - फोटो : ANI

झारखंड में सरकारी कामकाजों में बरती जाने वाली लापरवाही से होने वाला नुकसान आम जनता को उठाना पड़ रहा है। लातेहार के रहने वाले 65 वर्षीय रामचरण मुंडा को राशन वितरण में हुई तकनीकी गड़बड़ी की कीमत अपनी जान देकर चुकानी पड़ी।

दरअसल क्षेत्र में बायोमेट्रिक सिस्टम के जरिए राशन वितरण किया जाता है, लेकिन पिछले कुछ समय से किसी तकनीकी खराबी के कारण बायोमेट्रिक मशीन काम नहीं कर रही थी, जिसके कारण रामचरण को राशन नहीं मिल पा रहा था। स्थिति इतनी बुरी हो गई कि कथित तौर पर भूख से छटपटाने के कारण रामचरण मुंडा ने आखिरकार गुरुवार को दम तोड़ दिया।

उनकी बेटी ने बताया कि बायोमेट्रिक मशीन खराब होने के कारण पिछले तीन महिनों से उनके परिवार को राशन नहीं मिला है। उन्होंने कहा कि उनके पिता की मौत अत्यधिक भूख के कारण हुई है। पिछले चार दिनों से रामचरण मुंडा ने कुछ नहीं खाया था।

गौरतलब है कि इससे पहले भी कई बार राशन कार्ड और बायोमेट्रिक सिस्टम में आने वाली खराबियों के कारण लोगों को तरह-तरह की परेशानी का सामना करना पड़ा है। कई जगह से ऐसे मामलों की खबरें आती हैं, लेकिन शायद ही कभी सरकार की ओर से इसे लेकर कोई ठोस कदम उठाया गया है।

Liked it? Take a second to support द मॉर्निंग क्रॉनिकल हिंदी टीम on Patreon!