नोटबंदी योजनाबद्ध तरीके से किया गया ‘आपराधिक आर्थिक घोटाला’: राहुल गाँधी




कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने नोटबंदी के मुद्दे पर मोदी सरकार पर जमकर हमला बोला. राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि मोदी सरकार का यह कदम खुद से पैदा की गई ‘त्रासदी’ और ‘आत्मघाती हमला’ था, जिससे प्रधानमंत्री के ‘सूट-बूट वाले मित्रों’ ने अपने कालेधन को सफेद करने का काम किया.

उन्होंने कहा कि नोटबंदी सिर्फ एक बगैर सोचे-समझे ‘मासूम इरादे’ से लागू की गई आर्थिक नीति नहीं, बल्कि बहुत योजनाबद्ध तरीके से किया गया एक ‘आपराधिक आर्थिक घोटाला’ था.

राहुल गांधी ने कहा, ‘भारत के इतिहास में आठ नवंबर की तारीख को हमेशा कलंक के तौर पर देखा जाएगा. दो साल पहले आज के दिन प्रधानमंत्री मोदी ने देश पर नोटबंदी का कहर बरपाया. उनकी एक घोषणा से भारत की 86 फीसदी मुद्रा चलन से बाहर हो गई, जिससे हमारी अर्थव्यवस्था थम गई.’

वही मंगलवार को कांग्रेस प्रवक्ता मनीष तिवारी ने प्रेस कांफ्रेंस में कहा था कि दो साल पहले नोटबंदी के तुगलकी फरमान से देश की अर्थव्यवस्था को पूरी तरह तबाह करने के खिलाफ अपनी आवाज बुलंद करने के लिए कांग्रेस के नेता और कार्यकर्ता सड़कों पर उतरेंगे.



समाचार एजेंसी भाषा के अनुसार, तिवारी ने कहा कि दो साल पहले आठ नवंबर को प्रधानमंत्री ने राष्ट्र को संबोधित करते हुए तकरीबन 16.99 लाख करोड़ रूपये मूल्य की मुद्रा को चलन से बाहर कर दिया. उस तुगलकी फरमान के लिए तीन कारण दिए गए थे कि इससे काले धन पर रोक लगेगी, जाली मुद्रा बाहर होगी और आतंकवाद को वित्तीय सहायता मिलनी बंद हो जाएगी लेकिन दो साल बाद इनमें से कोई लक्ष्य पूरा नहीं हो पाया.

Liked it? Take a second to support द मॉर्निंग क्रॉनिकल हिंदी टीम on Patreon!