ए.पी.जे.अब्दुल कलाम: भारत के मिसाइल मैन जिनकी पूरी जिंदगी शिक्षा को समर्पित रही




भारत के पूर्व राष्ट्रपति और मिसाइल मैन ए.पी.जे. अब्दुल कलाम की आज जयंती है। वह भारत के 11वें राष्ट्रपति थे।

स्वर्गीय ए.पी.जे अब्दुल कलाम जी का जन्म 15 अक्टूबर 1931 को धनुषकोडी गाँव रामेश्वरम में हुआ था जो तमिलनाडु में स्थित है आपका पूरा नाम अबुल पकिर जैनुलाअबदीन अब्दुल कलाम है। अपने जीवन में कई उपलब्धियां प्राप्त करने वाले अब्दुल कलाम जी की मृत्यु 27 जुलाई 2015 में मेघालय के शिलांग में हुई थी, तब वे 83 वर्ष के थे।

अपनी आरंभिक पढ़ाई पूरी करने के लिए कलाम को घर-घर अखबार बांटने का भी काम करना पड़ा था। कलाम ने अपने पिता से ईमानदारी व आत्मानुशासन की विरासत पाई थी और माता से ईश्वर-विश्वास तथा करुणा का उपहार लिया था।

अब्दुल कलाम जी ने 1950 में मद्रास इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से अंतरिक्ष विज्ञान में स्नातक की उपाधि प्राप्त की है, स्नातक होने के बाद उन्होंने हावरक्राफ्ट परियोजना पर काम करने के लिये भारतीय रक्षा अनुसंधान एवं विकास संस्थान में प्रवेश किया और 1962 में कलाम जी भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन में आये जहाँ उन्होंने सफलतापूर्वक कई उपग्रह प्रक्षेपण परियोजनाओं में अपनी अहम भूमिका निभाई।



कलाम जी ने भारतीय विज्ञान में कई अविष्कार भी किए हैं उन्होने पहले स्वदेशी उपग्रह प्रक्षेपण यान एसएलवी 3 के निर्माण में बहुत महत्वपूर्ण कार्य किया था और जुलाई 1982 में रोहिणी उपग्रह सफलतापूर्वक अंतरिक्ष में प्रक्षेपित किया।

इन्होंने मुख्य रूप से एक वैज्ञानिक और विज्ञान के व्यवस्थापक के रूप में चार दशकों तक रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन और भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन इसरो को संभाला इसके अलावा 1974 में भारत द्वारा पहले मूल परमाणु परीक्षण के बाद से दूसरी बार 1998 में भारत के पोखरान-द्वितीय परमाणु परीक्षण में एक निर्णायक, संगठनात्मक, तकनीकी और राजनैतिक भूमिका निभाने वाले कलाम ही थे।

Liked it? Take a second to support द मॉर्निंग क्रॉनिकल हिंदी टीम on Patreon!