गडकरी ने मोदी पर निशाना साधा, जब राहुल ने बधाई दी तो पढ़िए क्या हुआ

Rahul and Gadkariनितिन गडकरी (बाएँ) और राहुल गांधी




“गडकरी जी, बधाई! भाजपा में बस आपके पास ही जिगरा है, कृपया राफ़ेल घोटाला और अनिल अम्बानी, किसानों की बदहाली और संस्थाओं की तबाही पर भी अपनी टिप्पणी दें,” यह कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने आज भाजपा के वरिष्ठ नेता और केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी को ट्विटर पर कहा.

नितिन गडकरी इन दिनों इशारे इशारे में ही प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी को निशाना बना रहे हैं.

27 जनवरी, 2019 (रविवार) को केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने रविवार को महाराष्ट्र के नागपुर में आयोजित एक कार्यक्रम में कहा कि सपने वही दिखाओ, जो पूरे हो सकें। गडकरी ने कहा था कि सपने दिखाने वाले नेता लोगों को अच्छे लगते हैं। लेकिन, वही सपने पूरे न हों, तो जनता पीटती भी है। राजनीतिक विश्लेषकों के अनुसार यह ब्यान गडकरी ने मोदी के उन वादों को लेकर किया जो उनहोंने पूरे नहीं किए और जिन पर जनता सवाल कर रही है. इसमें सबसे बड़ा वादा 15 लाख का है. नरेन्द्र मोदी ने प्रधान मंत्री बनने से पहले चुनावी भाषण में कहा था कि अगर उनकी सरकार बनती है तो जो काले धन आएँगे उससे भारत के सभी शहरियों को 15 लाख मिलेगा. बाद में अमित शाह ने इसे जुमला कहा था.



2 फरवरी (शनिवार) को हुई अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के एक कार्यक्रम में गडकरी ने कहा कि जो अपना घर नहीं संभाल सकता, उसके लिए देश को देखना आसान काम नहीं है। उन्होंने कहा कि कार्यकतार्ओं को पहले अपनी घरेलू जिम्मेदारी का निर्वहन करना चाहिए क्योंकि जो लोग अपना घर नहीं देख सकते वह देश को नहीं संभाल सकते हैं। यह सीधा निशाना नरेंद्र मोदी पर ही था. नरेंद्र मोदी विवाहित हैं लेकिन उनहोंने अपनी पत्नी को त्याग दिया है और वह अकेले ही रहती हैं.

राहुल गांधी ने अपने दुसरे ट्वीट में कहा कि उफ़्फ़, माफ कीजिए, एक महत्वपूर्ण विषय तो छूट ही गया था- रोजगार, रोजगार, रोजगार।

इस पर नितिन गडकरी ने भी जवाबी ट्वीट लिखा और एक नहीं बल्कि तीन तीन लिखा. उनहोंने कहा कि जो उनहोंने कहा वोह मीडिया द्वारा ट्विस्ट किया गया था.

खैर, यह तो पक्का है कि नितिन गडकरी मोदी के खिलाफ कुछ खिचड़ी पका रहे हैं. जनता इतना भी बेवक़ूफ़ नहीं है.




Be the first to comment on "गडकरी ने मोदी पर निशाना साधा, जब राहुल ने बधाई दी तो पढ़िए क्या हुआ"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*