गुजरात को रिमोट कंट्रोल से चलाया जा रहा : राहुल




राहुल गांधी (फ़ाइल फ़ोटो)

मोरबी(गुजरात), 26 सितम्बर | कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने सौराष्ट्र क्षेत्र में अपनी नवसृजन यात्रा के दूसरे दिन मंगलवार को कहा कि किसान, छोटे व्यापारी, मजदूर समेत गुजरात के लोग काफी मेहनत करते हैं, लेकिन यह फायदा केवल पांच-10 औद्योगिक घरानों को मिलता है और यह मोदी-मॉडल बदलना चाहिए। राहुल ने यहां एक जनसभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा और कहा कि राज्य में ‘रिमोट कंट्रोल’ से चलने वाली सरकार नहीं चलेगी।


उन्होंने कहा, “अगर हम गुजराज में बदलाव लाना चाहते हैं तो हमें गुजरात सरकार बनानी होगी, रिमोट कंट्रोल से चलने वाली सरकार यहां नहीं चलेगी।”

राहुल ने कहा कि अगर कांग्रेस को सत्ता मिली तो पार्टी इसका इस्तेमाल यहां के लोगों के लिए रोजगार, किसानों की मदद और ऋण माफी के लिए करेगी।

राहुल ने कहा, “जिनके पास घर नहीं है, हम उन्हें घर मुहैया कराएंगे। यह गरीबों और कमजोरों की सरकार होगी। हमें इसे पटरी पर लाना होगा।”

उन्होंने कहा, “किसान, छोटे व्यापारी, मजदूर और युवा काम करते हैं, जिसका फायदा केवल पांच-10 उद्योगपति उठाते हैं। यह गुजरात की कहानी है, मोदीजी के मॉडल की। हमें इसे बदलना होगा।”

राहुल मंगलवार को अपनी यात्रा के दूसरे दिन जामनगर के व्यापारी समुदाय से मिले। व्यापारियों ने अपनी चिंताए उनके साथ साझा की।

उन्होंने जामनगर में धरोल के पास जनसभा को संबोधित किया और पाटीदार आंदोलन के समय गोलीबारी के लिए मोदी पर निशाना साधा।

राहुल ने कहा, “पाटीदारों को मोदी सरकार में गोलियां खानी पड़ी, लेकिन कांग्रेस इसे प्यार और भाईचारे के साथ आगे बढ़ाना चाहती है।”

उन्होंने अपनी टिप्पणी को ट्वीट भी किया।

उन्होंने कहा, “मैं पाटीदार समुदाय से कहना चाहता हूं कि भाजपा के लोग आप पर गोलियां चलाने के दोषी हैं। यह कांग्रेस का तरीका नहीं है। हम प्यार और भाईचारे से काम करते हैं।”

राहुल ने कहा, “आप गुजरात को रिमोट कंट्रोल से नहीं चला सकते। गुजरात किसानों, मजदूरों और छोटे व्यापारियों का है।”

उल्लेखनीय है कि राहुल गांधी ने सोमवार को अगले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर द्वारकाधीश मंदिर में पूजा-अर्चना कर अपनी पार्टी के अभियान की शुरुआत की।

अपने तीन दिवसीय गुजरात दौरे के दौरान गांधी सौराष्ट्र क्षेत्र के गांवों में लोगों से मुलाकात कर रहे हैं।

-आईएएनएस

Liked it? Take a second to support द मॉर्निंग क्रॉनिकल हिंदी टीम on Patreon!