छोटे से कपडे की दुकान चलाने वाला सुशील मोदी का खानदान खरबों का मालिक कैसे बन बैठा: तेजस्वी यादव




पटना (बिहार), 30 अप्रैल, 2018 (टीएमसी हिंदी डेस्क)| सुशील मोदी द्वारा लगातार निशाना बनने के बाद अब तेजस्वी यादव ने भी अपनी प्रतिक्रिया पहले से तीखी कर ली है। तेजस्वी यादव ने कहा कि सुशील मोदी इतने बड़े धांधलीबाज और फ़रेबी है कि है अपनी माँ की कोख से जन्मे सगे भाई को अपना दूर का रिश्तेदार बताते है। जो व्यक्ति अपने भाई को रिश्तेदार बताता हो तो सोच लीजिये वह कितना बड़ा फ़्रॉड और दोगला होगा? फिर भी कोई उनकी बातों पर यक़ीन करता है तो समझों वह जानबुझकर जहर पी रहा है”



“सुशील मोदी इतने बड़े धांधलीबाज और फ़रेबी है कि है एक माँ की कोख से जन्मे सगे भाई को अपना दूर का रिश्तेदार बताते है।जो व्यक्ति अपने भाई को रिश्तेदार बताता हो तो सोच लीजिये वह कितना बड़ा फ़्रॉड और दोगला होगा? फिर भी कोई उनकी बातों पर यक़ीन करता है तो समझों वह जानबुझकर जहर पी रहा है,” तेजस्वी ने ट्वीट किया।

उनहोंने आगे कहा कि सुशील मोदी को यह बताना चाहिए कि आख़िर उनका परिवार जो कुछ वर्ष पहले तक एक छोटा सा कपड़ा का दूकान चलाता था आज खरबों में कैसे खेल रहा है। उनहोंने उनके भाई के फर्म आशियाना हाउसिंग का उल्लेख करते हुए कहा कि यह उनके भाई राजकुमार मोदी का फर्म है और आज 10 हज़ार करोड़ का है। यह रियल एस्टेट कंपनी सुशील मोदी के उप-मुख्यमंत्री बनते ही इतना आगे कैसे बढ़ गया?

“सुशील मोदी यह साफ़ क्यों नही करते कि चंद वर्ष पूर्व छोटे से कपडे की दुकान चलाने वाला उनका चर्चित मोदी खानदान अचानक खरबों का मालिक कैसे बन बैठा? इनके भाई राजकुमार मोदी की 10 हज़ार करोड़ की रीयल इस्टेट कंपनी Ashiana Housing इनके उपमुख्यमंत्री बनने के बाद ही आगे क्यों और कैसे बढ़ी?” तेजस्वी ने ट्वीट कर कहा।

राजद नेता और पूर्व उप-मुख्यमंत्री ने रेखा मोदी का हवाला देते हुए कहा कि सृजन घोटाले में जो उनकी बहन रेखा मोदी द्वारा बन्दर बाँट करने में सुशील मोदी ने की उसका क्या? उन्होंने अपने ट्वीट में हवाला कारोबारी ललित छाछवरिया के बारे में भी पुछा कि यह कौन है जो इनके खानदान को खरबों की मनी लॉन्ड्रिंग में मदद करता है। उनहोंने सुशील मोदी से पुछा कि उनहोंने और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सृजन घोटाले में जाँच के आदेश क्यों नहीं दिए?

तेजस्वी ने पूछा कि सुशील मोदी जाँच एजेंसियों SFIO, ED, CBI, IT को अपने भाई के काले कारोबार की जाँच के लिए क्यों नहीं लिखते? जो खुद घोटालेबाजों का सरगना है। वो आए दिन घोटाला-2 चिल्लाता है पर अपने कुनबे के घोटालों पर चुप्पी साध कर क्यों बैठा है? इनकी सफ़ेद दाढ़ी में घोटालों का काला तिनका क्यों है?

यादव ने सुशील मोदी को चुनौती देते हुए कहा कि अगर वह ईमानदार हैं तो हमसे अपनी जगह पर अपने समय से बहस करें। उनहोंने कहा “सुशील मोदी जी,आप आदरणीय है इसलिए यह तो नहीं कहूँगा कि आप बेशर्म है। लेकिन मेरे द्वारा बार-बार आपकी मनपसंद जगह व समय पर खुली बहस की चुनौती देने के बावजूद आप चुप्पी साधे हुए है। शायद अपने ख़ानदान के काले कारनामों व घोटालों के डर से मुझसे बहस करने की आपमें हिम्मत नहीं।”

Liked it? Take a second to support द मॉर्निंग क्रॉनिकल हिंदी टीम on Patreon!




Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*