क्या रवीन्द्र जडेजा का टीम इंडिया में चयन भाजपा को समर्थन देने के शर्त पर हुआ?




प्रधान मंत्री मोदी को रविन्द्र जडेजा और उनकी पत्नी फूल का गुलदस्ता पेश करते हुए (फ़ोटो साभार: सोशल मीडिया)
टीम इंडिया में सेलेक्शन के 3 घंटे बाद ही रवींद्र जडेजा ने किया BJP को समर्थन का ऐलान

वर्ल्ड कप टीम में चयन होने के कुछ घंटे बाद ही भारतीय क्रिकेट टीम के ऑलराउंडर रवींद्र जडेजा ने भारतीय जनता पार्टी (BJP) के समर्थन का ऐलान किया है. लोकसभा चुनाव के बीच किए गए इस ट्वीट में जडेजा ने बीजेपी का सिंबल भी शेयर किया है. साथ ही उन्होंने अपने ट्वीट में नरेंद्र मोदी को टैग करने के साथ अपनी पत्नी का हैशटैग इस्तेमाल किया है.

इसके बाद जडेजा के ट्वीट को ट्वीट करते हुए अपने जवाब में प्रधान मंत्री ने उन्हें विश्व कप 2019 की भारतीय क्रिकेट टीम में शामिल होने के लिए बधाई दी है.

“धन्यवाद जडेजा! और 2019 विश्व कप के लिए भारतीय क्रिकेट टीम में चुने जाने के लिए बधाई. मेरी शुभकामनाएं,” मोदी ने ट्वीट कर कहा.

जडेजा की पत्नी रिवाबा जडेजा ने बीते मार्च बीजेपी ज्वाइन की थी. रिवाबा के बाद रवींद्र जडेजा के पिता और बहन भी राजनीति में उतर गए हैं और उन्होंने बीजेपी के मुख्य विरोधी दल कांग्रेस का हाथ थाम लिया है.

रवींद्र जडेजा के पिता अनिरुद्ध सिंह और नैना जडेजा ने बीते 14 अप्रैल को ही कांग्रेस ज्वाइन की है. दोनों ने जामनगर जिले के कालावाड़ में कांग्रेस की एक रैली के दौरान यह फैसला किया. जबकि पत्नी रिवाबा पहले ही बीजेपी में जा चुकी थी. खबर ये भी था कि रिवाबा जडेजा ने जामनगर से चुनाव लड़ने की इच्छा जाहिर की है, लेकिन जब टिकट घोषणा हुई तो मौजूदा सांसद पूनम माडम ने बाजी मार ली. लेकिन जजेडा परिवार आपस में बंट गया. रवींद्र जडेजा की पत्नी बीजेपी के साथ चली गईं, जबकि पिता व बहन ने कांग्रेस का हाथ थाम लिया है. इस तरह रवींद्र जडेजा का परिवार बीजेपी और कांग्रेस दोनों के समर्थन में उतर गया.

लेकिन इंग्लैंड में इसी साल होने जा रहे वर्ल्ड कप के लिए 15 अप्रैल को जब 15 खिलाड़ियों की टीम में रवींद्र जडेजा के नाम की घोषणा हुई तो उसके महज तीन घंटे के अंदर ही जडेजा ने साफ कर दिया कि परिवार के दो धड़ो में वो किसके साथ हैं. उन्होंने सोमवार शाम बाकायदा ट्वीट कर भारतीय जनता पार्टी और नरेंद्र मोदी के साथ ही अपनी पत्नी के समर्थन का ऐलान कर दिया. कहा जा रहा है कि जडेजा परिवार में राजनीतिक मतभेद हो गया था, जिसके बाद रवींद्र जडेजा ने अपनी स्थिति स्पष्ट की है. हालांकि, जडेजा के इस कदम की सोशल मीडिया पर काफी आलोचना भी हो रही है.

कयास यह भी लगाया जा रहा है कि जडेजा को इंडियन क्रिकेट टीम में मोदी सरकार को इस चुनाव में समर्थन के बदले जगह मिली है. हालांकि इसकी पुष्टि नहीं की जा सकी है कि क्या भाजपा और जडेजा में इस तरह का कोई समझौता हुआ है.

बता दें कि गुजरात की सभी 26 लोकसभा सीटों पर तीसरे चरण के तहत 23 अप्रैल को मतदान होना.

Liked it? Take a second to support द मॉर्निंग क्रॉनिकल हिंदी टीम on Patreon!