आईटी ऐक्ट से लोगों की जासूसी यही है गुजरात मॉडल..?




नई दिल्ली : आईटी ऐक्ट से जुड़ी मीडिया में आ रही रिपोर्ट को लेकर कांग्रेस ने मोदी सरकार पर हमला बोला। सोमवार को कांग्रेस ने आरोप लगाया कि मोदी सरकार इस देश में गैर संवैधानिक तरीके से आम लोगों की जासूसी कराने की योजना पर काम कर रही है, जो पीएम नरेंद्र मोदी का गुजरात मॉडल है।

मीडिया में रिपोर्ट है कि मोदी सरकार आईटी रूल्स (इंटरमीडियरीज गाइडलाइंस) 2011 में बड़े बदलाव की तैयारी में हैं, जिसमें तमाम सर्विस प्रोवाइडर्स को इन्फॉर्मेशन या डेटा भेजने वाले, उसे पाने वाली की जानकारी के साथ-साथ उसमें मौजूद कंटेट की जानकारी भी शेयर करनी होगी। इसके लिए गृह मंत्रालय ने देश की दस टॉप एजेंसीज को अधिकृत किया है।



कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि यह मोदी सरकार का इंस्पेक्टर राज नहीं, बल्कि उससे भी आगे जाते हुए देश में डर का माहौल भरना है। देश में गैर कानूनी जासूसी या निगरानी राज बनाना है।

सिंघवी ने निशाना साधते हुए कहा कि अगर किसी को गैर संवैधानिक जासूसी एजेंसी खोलना सीखना है तो मौजूदा केंद्र सरकार से सीखना चाहिए कि कैसे लोगों का डेटा चुराया जाए। सरकार की यह सोच दर्शाती है कि देश में हर कोई चोर है। यह मोदी सरकार का ईज़ ऑफ डूइंग बिजनेस ना होकर ईज़ ऑफ डूइंग जासूसी मॉडल है।

आईटी रूल्ज़ में बदलाव की तैयारी का मतलब कि आप जो भी कर रहे है, वो किसी को राजनीतिक रूप से सूट नहीं करता तो आप मुसीबत में आ सकते हैं।

Liked it? Take a second to support द मॉर्निंग क्रॉनिकल हिंदी टीम on Patreon!