इधर इमरजेंसी की बात कर रहे थे मन की बात में मोदी, उधर पत्रकारों पर इमरजेंसी लगा रही थी योगी सरकार




उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ रविवार को मुरादाबाद के दौरे पर थे, जहां उन्होंने सरकारी अस्पतालों में लोगों को मिल रही सेवाओं का जायजा लिया. लेकिन इस दौरान मुख्य मंत्री जी से कोई पत्रकार सवाल न पूछ ले इसके लिए उन्हें कमरे में तब तक बंद करके तब तक रखा गया जब तक मुख्य मंत्री चले न गए.

मीडियाकर्मियों का आरोप था कि सरकार की खामियों पर मुख्य मंत्री से कोई सवाल न कर दे इसलिए उन्हें कमरे में बंद कर दिया गया.

उनका डीएम पर आरोप था कि दरअसल सेवाओं में कमी और खामियों को लेकर पत्रकार मुख्यमंत्री से सवाल ने पूछ लें इसलिए मुरादाबाद के डीएम राकेश कुमार सिंह ने दर्जनों पत्रकारों को एक कमरे में बंद करवा दिया.

दर्जनों मीडियाकर्मियों को अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में को बंद करवा दिया गया था. इतना ही नहीं उस दरवाजे के भीतर सिविल लाइन थाना के प्रभारी शक्ति सिंह को निगरानी के लिए भी लगा दिया ताकि कोई भी पत्रकार सीएम के दौरे के दौरान बाहर नहीं निकल सके.

सीएम योगी जब अस्पताल का दौरा कर वापस लौट गए, तब जाकर इमरजेंसी वार्ड का दरवाजा खुला और पत्रकार बाहर निकल सके. इस दौरान कमरे में बंद किए जाने को लेकर मीडियाकर्मियों ने हंगामा भी किया. पत्रकार दरवाजा पीटते रहे लेकिन प्रशासन ने उनकी एक नहीं सुनी.

रविवार को मुरादाबाद के दौरे पर पहुंचे सीएम योगी आदित्यनाथ सर्किट हाउस हेलीपैड पर उतरे और सीधे निरीक्षण स्थल के दौरे के लिए निकल गए. सीएम ने अस्पताल के अलावा सरकारी दफ्तरों का भी दौरा किया.

मुख्यमंत्री योगी के साथ मुरादाबाद जनपद के प्रभारी डॉ महेंद्र सिंह भी थे. जिला प्रशासन की तरफ से उनके दौरे को लेकर व्यापक तैयारी की गई थी और सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए थे.

Liked it? Take a second to support द मॉर्निंग क्रॉनिकल हिंदी टीम on Patreon!