महाराष्ट्र के भाजपा सांसद नाना पटोले ने क्यों दिया पार्टी, लोकसभा से इस्तीफा?




-द मॉर्निंग क्रॉनिकल हिंदी डेस्क

मुंबई/नई दिल्ली, 08 दिसम्बर, 2017 | सार्वजनिक तौर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना करने वाले महाराष्ट्र के भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता नाना पटोले ने शुक्रवार को घोषणा की कि उन्होंने लोकसभा सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है और पार्टी भी छोड़ दी है। भंडारा-गोंदिया से सांसद पटोले ने कहा कि उन्होंने लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन के कार्यालय को और भाजपा नेतृत्व को अपना इस्तीफा सौंप दिया है



उन्होंने कहा कि पार्टी इसलिए छोड़ रहे हैं, क्योंकि वह काफी दुखी और पार्टी द्वारा खुद को उपेक्षित महसूस कर रहे हैं।

महाजन को लिखे अपने इस्तीफे में उन्होंने लिखा है, “आदरणीय मैडम, मैं सदन में अपनी सीट से इस्तीफा देता हूं जो आज दिनांक 8/12/17 से प्रभावी होगा।”

पटोले ने यह कदम गुजरात विधानसभा चुनाव के प्रथम चरण के मतदान (शनिवार) से ठीक एक दिन पहले उठाया है।

हाल के महीनों में भाजपा नेतृत्व के कटु आलोचक रहे पटोले ने कहा कि वह लोकसभा व पार्टी से इस्तीफा दे रहे हैं क्योंकि वह काफी दुखी हैं और पार्टी द्वारा खुद को उपेक्षित महसूस कर रहे हैं।

लोकसभा सचिवालय को अपना इस्तीफा सौंपने के तत्काल बाद उन्होंने मीडिया से कहा, “जिस वजह से मैं पार्टी (भाजपा) में शामिल हुआ था, वह झूठा साबित हुआ। लेकिन, अब मैं (इस्तीफा देने के बाद) अपने भीतर की बैचेनी से मुक्त हो गया हूं।”

पटोले ने कहा कि उन्होंने अभी तक यह तय नहीं किया है कि वह किस पार्टी में शामिल होंगे, लेकिन वह ‘किसी समान विचारधारा वाले राजनीतिक दल’ में शामिल होने पर विचार करेंगे।

पटोले ने सितंबर में एक जनसभा में यह कहकर सनसनी मचा दी थी कि मोदी प्रश्न पूछना और अपनी आलोचना पसंद नहीं करते हैं।

उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि ‘सभी केंद्रीय नेता हमेशा डर की अवस्था में रहते हैं और मैं हिट लिस्ट में था, लेकिन मैं किसी से नहीं डरता।’

-आईएएनएस

Liked it? Take a second to support द मॉर्निंग क्रॉनिकल हिंदी टीम on Patreon!