गोवा में गोमांस की कमी नहीं: भाजपा मंत्री




गोवा भाजपा के पशुपालन मंत्री मौविन गोडिंहो

-द मॉर्निंग क्रॉनिकल हिंदी डेस्क

पणजी (गोवा), 15 दिसंबर, 2017 गोवा में गोमांस की कोई कमी नहीं है, पशुपालन मंत्री मौविन गोडिंहो ने शुक्रवार को कहा। हालांकि, उन्होंने स्वीकार किया कि राज्य की एकमात्र कानूनी मान्यता वाला बूचड़खाना अपनी पूरी क्षमता से कार्य नहीं कर रहा है।

गोडिंहो राज्य के विधानसभा में कांग्रेस के विधायक फ्रांसिस्को सिलवेरा के प्रश्न का जवाब दे रहे थे।

मंत्री ने कहा कि पड़ोसी राज्यों में पशुओं के परिवहन परमिट संबंधी समस्याओं के कारण गोवा का एकमात्र बूचड़खाना गोवा मीट काम्प्लेक्स पर्याप्त संख्या में मवेशियों को काटा नहीं नहीं जा रहा है।


कांग्रेस नेता यह जानना चाहते थे कि सरकार द्वारा नियमित और पर्याप्त गौमांस की आपूर्ति सुनिश्चित की जाएगी या नहीं।

भारतीय जनता पार्टी की अगुवाई वाली गठबंधन मंत्रिमंडल के मंत्री गोडिंहो ने लिखित उत्तर में कहा कि, “गोवा में गौमांस की कोई कमी नहीं है।”

राज्य के मांस व्यापारियों ने बीफ़ की कमी की चेतावनी दी है उन्होंने गौरक्षकों द्वारा मवेशियों को बूचड़खाने तक लाने में प्रताड़ित करने का आरोप लगाया है, और कहा कि गौरक्षकों के उत्पात के कारण गोवा में गौमांस बेचने के लिए उन्हें दुसरे क्षेत्रों से पहले से कटा हुआ फ्रोज़ेन बीफ़ आयात करने के लिए मजबूर किया जा रहा है।

“गोवा मीट कॉम्प्लेक्स लिमिटेड पूरी तरह से चालू है। हालांकि, वर्तमान में, व्यापारियों को वध करने के लिए जानवरों को लाने में कठिनाई हो रही है, क्योंकि उन्हें राज्य से बाहर से जानवरों को लाने के लिए परिवहन अनुमति प्रमाण पत्र नहीं मिल रहे हैं,” गोडिंहो ने कहा।

प्रतिदिन औसतन 22 मवेशियों का वध किया जा रहा है, जबकि बूचड़खाने की प्रति शिफ्ट प्रति 120 पशुओं के वध की क्षमता है, उन्होंने कहा।

आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार राज्य में प्रतिदिन लगभग 30 से 50 टन बीफ़ का सेवन किया जाता है, जो राज्य में आने वाले पर्यटकों और अल्पसंख्यक समुदायों तक पहुंचते हैं, जो गोवा की आबादी का लगभग एक तिहाई हिस्सा हैं।

जुलाई 2016 में, मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर ने विधानसभा को आश्वासन दिया था कि सरकार राज्य को गोमांस की नियमित आपूर्ति सुनिश्चित करेगी।

Liked it? Take a second to support द मॉर्निंग क्रॉनिकल हिंदी टीम on Patreon!