प्रधानमंत्री मोदी की चार साल की विदेश यात्रा पर खर्च हुए 2021 करोड़ रुपए




नई दिल्ली : 2014 में सरकार बनने के बाद से अब तक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विदेश दौरों पर 2021 करोड़ रुपए खर्च हुए। इनमें चार्टर्ड फ्लाइट के किराए से लेकर विमानों के रखरखाव और प्रधानमंत्री को मिलने वाली हॉटलाइन सु‌विधा का खर्च भी शामिल है।

वहीं 2009 से 2014 के बीच तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की विदेश यात्राओं पर खर्च हुए थे 1346 करोड़ रु. खर्च हुए थे | इस मामले की जानकारी विदेश राज्यमंत्री वीके सिंह ने शुक्रवार को राज्यसभा में दी।

आंकड़ों के मुताबिक, 2014-15 में विदेश यात्राओं के लिए चार्टर्ड विमानों पर 93.76 करोड़ रुपए खर्च हुए, जबकि 2015-16 में यह 117.89 करोड़ रु. रहा। 2016-17 में यात्राओं के लिए चार्टर्ड विमान पर 76.27 करोड़ और 2017-18 में 99.32 करोड़ रुपए रहा। इस साल 3 दिसंबर तक विदेशी यात्राओं के लिए विमानों पर 42.01 करोड़ रुपए खर्च हो चुके हैं।



दूसरी तरफ पिछले साढ़े चार सालों में सरकारी योजनाओं के प्रचार में एनडीए सरकार ने 5246 करोड़ रुपए खर्च किए हैं। सूचना-प्रसारण राज्यमंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने लोकसभा में यह जानकारी दी।

राठौड़ ने बताया कि सबसे ज्यादा 2313 करोड़ रुपए इलेक्ट्रानिक/ऑडियो-विजुअल मीडिया के जरिए विज्ञापन में खर्च किए गए। वहीं 2282 करोड़ रुपए प्रिंट मीडिया में विज्ञापन के लिए खर्च हुए। इसी तरह 651 करोड़ रुपए आउटडोर पब्लिसिटी के लिए खर्च किए।

आपको बताते चले कि पिछली यूपीए सरकार ने अपने 10 साल के कार्यकाल में योजनाओं के प्रचार पर 5040 करोड़ रुपए खर्च किए थे।

Liked it? Take a second to support द मॉर्निंग क्रॉनिकल हिंदी टीम on Patreon!