योगी राज में पुलिस ने किया इंसानियत को शर्मसार




उत्तर प्रदेश की योगी सरकार में गरीबों का एफ़आईआर दर्ज नहीं हो रहा, पुलिस वाले के पैरों पर गिरी मृत युवक की बेसहारा माँ, विडियो वायरल

योगी आदित्यनाथ की उत्तर प्रदेश पुलिस की क्रूरता का एक मामला आज वायरल वीडियो के माध्यम से आया. वीडियो देखने के बाद किसी को भी दया आ जाए. मामला यह है कि लखनऊ के गुडंबा में टिंकू नाम के एक मज़दूर पर मशीन गिरने से मौत हो गयी. टिंकू इस इलाके में चल रहे एक प्लाईवुड फैक्ट्री में काम करते थे. सूत्रों के अनुसार प्लाईवुड गैर कानूनी ढंग से चल रहा है. उसी फैक्ट्री में टिंकू के भाई भी मज़दूरी करते थे.




अपने 19 साल के बेटे की मौत का एफ़आईआर कराने जब उनकी माँ थाने पहुंची तो वहां के इंस्पेक्टर ने एफ़आईआर दर्ज करने से मना कर दिया. एफ़आईआर करने से मना करने के बाद जैसा कि विडियो में देखा जा सकता है वह माँ इंस्पेक्टर के सामने हाथ जोड़ कर गिरगिराने लगीं लेकिन इंस्पेक्टर का कलेजा नहीं पसीजा और वह सेवक नहीं बल्कि किसी ज़मींदार की तरह बैठे रहे. अबला माँ ने उनके पैर पकड़ लिए फिर भी उनहोंने एफ़आईआर करने की ज़हमत नहीं की. ऐसा वह कई लोगों की मौजूदगी में कर रहे थे. जब भीड़ ने हल्ला हंगामा शुरू किया तो इंस्पेक्टर ने फिर मामला दर्ज किया.

यह भी पढ़ें: बिहार में पुलिस दर्ज नहीं कर रही है एफ़आईआर

इसका किसी ने चुपके से विडियो बना लिया. हालांकि वीडियो में इंस्पेक्टर का चेहरा नज़र नहीं आ रहा है. लेकिन मुख्य द्वार पर लिखा थाने का नाम साफ़ नज़र आ रहा है.

मीडिया सूत्रों के अनुसार, इंस्पेक्टर का नाम तेज प्रताप है. उन्हें लाइन हाज़िर कर दिया गया है. एनडीटीवी के अनुसार, एएसपी हरेंद्र कुमार ने बताया, ‘वीडियो मैंने भी देखा है. वीडियो पर संज्ञान लिया गया है और इसकी जांच करवाई जाएगी. यह जांचा जाएगा कि यह किन परिस्थितियों में हुआ है.’

आश्चर्य की बात यह है कि यह वही थाना है जिसे देश के टॉप 3 थानों में चुना गया था और इसे देश के गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने पुरस्कृत किया था.

Liked it? Take a second to support द मॉर्निंग क्रॉनिकल हिंदी टीम on Patreon!