राष्ट्रपति ने की टीपू सुल्तान की प्रशंसा, भाजपा ने की राष्ट्रपति की आलोचना




राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद कर्नाटक विधानसभा के संयुक्त सत्र को संबोधित करते हुए (चित्र साभार: ट्विटर)

-द मॉर्निंग क्रॉनिकल हिंदी डेस्क

बेंगलुरु, 25 अक्टूबर | राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने बुधवार को टीपू सुल्तान की सराहना करते हुए कहा कि मैसूर के शासक अंग्रेजों से लड़ते हुए ‘ऐतिहासिक मृत्यु’ को प्राप्त हुए थे। कोविंद ने कर्नाटक विधानसभा के भवन विधान सौध के हीरक जयंती (60 वर्ष पूरे होन पर) समारोह के अवसर पर कर्नाटक विधानसभा के संयुक्त सत्र को संबोधित करते हुए कहा, “टीपू सुल्तान अंग्रेजों से लड़ते हुए ऐतिहासिक मृत्यु को प्राप्त हुए थे। वह मैसूर रॉकेट के विकास के जनक थे।”

राष्ट्रपति ने राज्य व देश के निर्माण में मैसूर और कर्नाटक के पूर्व शासकों, सैनिकों, राजनीतिज्ञों और वैज्ञानिकों के योगदान को सराहा। इसी क्रम में कोविंद ने टीपू के बारे में जैसे ही बोला, पूरे सदन ने इसका जोरदार स्वागत किया।

राष्ट्रपति द्वारा टीपू को सराहने का बयान भाजपा के गले नहीं उतरा है।

भाजपा नेता एवं पूर्व उप मुख्यमंत्री के.एस. ईश्वरप्पा ने कहा कि सत्तारूढ़ कांग्रेस पार्टी ने राष्ट्रपति को ‘जबरदस्ती’ टीपू सुल्तान पर बोलने के लिए कहा है।

ईश्वरप्पा ने संयुक्त सत्र के बाद कहा, “यह भाषण कांग्रेस सरकार द्वारा जानबूझकर राष्ट्रपति से टीपू सुल्तान की सराहना के लिए बुलवाया गया।”

कर्नाटक कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष दीनेश गुंडु राव ने कहा कि भाजपा राष्ट्रपति के भाषण की आलोचना कर उनका अपमान कर रही है।

राव ने मीडिया से कहा, “वे (भाजपा) हमारे देश के राष्ट्रपति का (ऐसा कहकर) केवल अपमान कर रहे हैं।”

सत्तारूढ़ कांग्रेस ने वर्ष 2015 में 10 नवम्बर को टीपू जयंती के रूप में मनाने का फैसला किया था, जिसके बाद दक्षिणपंथी संगठनों ने मैसूर और राज्य में अन्य जगहों पर हिंसक प्रदर्शन किए थे। भारतीय जनता पार्टी राज्य में टीपू को हिंदू-विरोधी और कन्नड़-विरोधी बताकर इस जयंती का विरोध करती रही है।

टीपू सुल्तान ने अपने पिता हैदर अली के निधन के बाद वर्ष 1782-1799 तक मैसूर पर शासन किया था।

-आईएएनएस

Liked it? Take a second to support द मॉर्निंग क्रॉनिकल हिंदी टीम on Patreon!