NRC विधेयक के खिलाफ असम में प्रदर्शन, 3 जिलों में 144 लागू




असम में कई संगठनों के नागरिकता (संशोधन) विधेयक, 2016 के विरोध में शुक्रवार को यहां असम सचिवालय की ओर मार्च कर रहे हजारों लोगों को सुरक्षा बलों ने रोक दिया। बताया जा रहा इस ‘जनता भवन घेराव’ कार्यक्रम में 70 संगठनों के लोग शामिल थे।

विधेयक के खिलाफ प्रदर्शनकारियों की ‘संकल्प शिखा यात्रा’ रोकने के लिए सचिवालय के आस पास बैरिकेड लगाए गए हैं। खबरों के मुताबिक सुरक्षा जवानों द्वारा नहीं रोके जाने के कारण प्रदर्शनकारी सचिवालय के पीछे लास्ट गेट रोड पर अनाधिकृत तरीके से जमा हो गये और व्यस्त मार्ग पर कई घंटों तक यातायात बंद रखने की बात सामने आई है।

कृषक मुक्ति संग्राम समिति के नेता अखिल गोगई ने कहा कि ‘विधेयक के खिलाफ हमारा आंदोलन कार्यक्रम जारी रहेगा।’ उन्होंने आरोप लगाया कि बीजेपी शासित राज्य सरकार विधेयक का समर्थन करके असम के मूल निवासियों के हितों के खिलाफ काम कर रही है। जिससे इस विधेयक से असम के मूल निवासियों की भाषा, संस्कृति और अखंडता के सामने खतरा पैदा हो गया है।

अपराध दंड संहिता की धारा 144 को गुवाहाटी के तीन जिलों में गुरुवार को तत्काल प्रभाव से लागू किया गया है।

Liked it? Take a second to support द मॉर्निंग क्रॉनिकल हिंदी टीम on Patreon!