फेक न्यूज़: ‘2020 जीवित रहने का साल है, लाभ हानि की चिंता न करें’ रतन टाटा का सन्देश नहीं




WhatsApp पर चल रहा हर सन्देश सही नहीं होता. सन्देश हमेशा चेक करें और उसे सत्यापित करें. किसी भी सन्देश के साथ मेरी तस्वीर यह सुनिश्चित नहीं करता कि सन्देश सही है और मैंने ऐसा कहा है. यह बात WhatsApp और सोशल मीडिया पर चल रहे रतन टाटा के नाम से एक फेक सन्देश को लेकर खुद रतन टाटा ने अपने ट्वीट में कहा. उनहोंने कहा कि इस तरह के फेक न्यूज़ का सामना बहुत सारे लोग कर रहे हैं.

रतन टाटा का एक लिखित सन्देश WhatsApp और सोशल मीडिया पर ज़ोर शोर से चल रहा जिसमें वह कह रहे हैं कि 2020 जीवित रहने का साल है, लाभ हानि की चिंता न करें.

इस सन्देश को रतन टाटा ने गलत बताया है. उनहोंने ट्वीट कर कहा कि उनहोंने ऐसा कुछ नहीं कहा और यह फेक है.

इससे पहले भी अर्थ व्यवस्था को लेकर उनका एक संदेश वायरल हुआ था. इस संदेश में उनके हवाले से कहा था कि विशेषज्ञों का कहना है कि कोरोना के कारण बहुत बुरी तरह गिरने वाला है. इस सन्देश को “इस घड़ी में बहुत ही प्रेरणादायक सन्देश” के नाम से सोशल मीडिया पर वायरल किया गया था.

इस संदेश को टाटा ने टैग करते हुए लिखा था उनहोंने ऐसा कुछ नहीं कहा और वह जब कहेंगे अपने अधिकारिक चैनल के माध्यम से कहेंगे.

Liked it? Take a second to support द मॉर्निंग क्रॉनिकल हिंदी टीम on Patreon!