सावित्री बाई फुले का इस्तीफा, कहा- BJP के दलित विरोधी अजेंडे को करूंगी बेनकाब




अपने बयानों से अक्सर पार्टी के लिए मुश्किल खड़ी करने वाली चर्चित सांसद सावित्री बाई फुले ने बीजेपी से इस्तीफा दे दिया है। यूपी के बहराइच से सांसद फुले ने इस्तीफा देने के साथ ही बीजेपी पर फिर हमला बोला है।

फुले ने आरोप लगाया कि बीजेपी समाज में बंटवारे की साजिश कर रही है। जब तक वह जिंदा हैं, बीजेपी में वापस नहीं लौटेंगी। यह भी साफ किया कि अपने कार्यकाल तक वह सांसद बनी रहेंगी।

गुरुवार को लखनऊ में आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में इस्तीफे के ऐलान के साथ ही फुले ने बीजेपी और आरएसएस पर जमकर हमला बोला। उन्होंने 18 सूत्रीय आरोप पत्र जारी करते हुए कहा कि दलित सांसद होने के चलते पार्टी में उनकी सुनवाई नहीं होती थी। 23 दिसंबर को रमाबाई आंबेडकर मैदान में रैली कर वह बीजेपी के दलित विरोधी अजेंडे को बेनकाब करेंगी।



उन्होंने कहा है कि बाबा साहेब की प्रतिमा पूरे देश में कई जगह तोड़ी गई, लेकिन तोड़नेवालों के खिलाफ कार्रवाई नहीं हुई। मंदिर-मस्जिद का खौफ दिखाकर आपसी भाईचारा खत्म किया जा रहा है।’

गौरतलब है कि पिछले ही दिनों राम मंदिर के मुद्दे पर फुले ने बीजेपी पर जमकर निशाना साधा था। इस दौरान सांसद ने राम मंदिर को मंदिर न बता देश के तीन फीसदी ब्राह्मणों की कमाई का धंधा करार दिया था।

Liked it? Take a second to support द मॉर्निंग क्रॉनिकल हिंदी टीम on Patreon!