गौरी लंकेश हत्याकांड: चार्जशीट में हुआ खुलासा, 5 साल से रची जा रही थी साज़िश




बेंगलुरु: पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या के मामले में जांच कर रही स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम (SIT) ने अदालत में एडिशनल चार्जशीट दायर कर दी। इस चार्जशीट में हिंदूवादी संगठन सनातन संस्था के करीब 18 लोगों को आरोपी बनाया गया है।

जहाँ 9235 पन्नों की चार्जशीट में ये कहा कि सनातन संस्थान के अंदर ही एक नेटवर्क ने गौरी लंकेश की हत्या की है। बिना किसी रंजिश के इस हत्या की साजिश पांच साल से रची जा रही थी।

एसआईटी ने शुक्रवार को प्रिंसिपल सिविल और सेशंस कोर्ट में चार्जशीट दाखिल की। पूरे मामले पर विशेष लोक अभियोजक एस बालन ने बताया कि मृतक और हत्यारे के बीच निजी या कोई दूसरी रंजिश नहीं थी। उन्हें इसलिए मारा गया क्योंकि वह एक खास विचारधारा को मानती और लिखती थीं। एसआईटी ने कोर्ट से इस मामले में जांच आगे भी जारी रखने की इजाजत मांगी है।



बता दें कि गौरी लंकेश हत्याकांड पर एसआईटी ने मई में पहली चार्जशीट दायर की थी। इसमें 18 आरोपियों के नाम हैं, जिनमें शूटर परशुराम वाघमारे, मास्टरमाइंट अमोल काले, सुजीत कुमार उर्फ प्रवीण और अमित देगवेकर शामिल हैं। इसी गैंग पर बुद्धिजीवियों एम एम कलबुर्गी, नरेंद्र दाभोलकर और गोविंद पानसरे की हत्या में शामिल होने का भी संदेह है।

इस सनसनीखेज हत्याकांड को लेकर पूरे देश में गुस्सा देखने को मिला था। जिसके बाद कर्नाटक की तत्कालीन सिद्धारमैया सरकार ने मामले की जांच के लिए विशेष जांच दल का गठन किया था।

Liked it? Take a second to support द मॉर्निंग क्रॉनिकल हिंदी टीम on Patreon!