अब कातिल कभी सो नहीं पायेगा: पत्रकार रामचंद्र छत्रपति की बेटी की मार्मिक कविता




Gurmit Ram Rahim and Slain Scribe Chhatrpati
हत्या की सज़ा पाने वाला डेरा प्रमुख राम रहीम और मारे गए पत्रकार रामचन्द्र छत्रपति

डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम के इशारे पर मारे गए पत्रकार रामचन्द्र छत्रपति की हत्या के मामले में गुरमीत को सज़ा होने के बाद पत्रकार की बेटी श्रेयसी छ्त्रपति की लिखी गयी यह कविता बेहद मार्मिक है. इसे पढ़ा जाना चाहिए और इस कविता से हर क़ातिल को डर भी लगना चाहिए. पढ़ें




अब कातिल कभी सो नहीं पायेगा

उस रात कोई नहीं सोया था
न घर में बैठे हम
न आईसीयू के बाहर चिंतित खड़ी मां
उस रात के बाद हम कई दिन नहीं सोये
पापा के घर लौटने के इंतज़ार में,
और फिर पापा लौट आये
उसी कफ़न में लिपटे हुए जो बड़े जूनून के साथ उन्होंने अपने साथ रखा था हमेशा और फिर उस कफ़न पर लिपटे फूलों ने कभी सोने नहीं दिया हमे
उन रातों में
हम ही नहीं जगे थे अकेले
छत्रपति भी जगे थे हमारे साथ
और कहते रहे
सो मत जाना
मेरे चैन से सो जाने तक
वह कहते रहे
सो मत जाना
कातिल के सलाखों में जाने तक अब पापा चैन से सो रहे हैं
और जेल के अँधेरे में जग रहा है कातिल आज रात कातिल सो नहीं पाएगा छत्रपति का कफ़न उसके गले का फंदा बन
हर झपकी से उसे अचानक
जगायेगा, डरायेगा, रुलाएगा ,

हाँ ! कातिल अब कभी सो नहीं पायेगा

Liked it? Take a second to support द मॉर्निंग क्रॉनिकल हिंदी टीम on Patreon!