सोनिया गांधी ने दिलाई ‘इंडिया शाइनिंग’ की याद, कहा- BJP को 2004 नहीं भूलना चाहिए




राय बरेली से परचा भर कर निकलती सोनिया गाँधी और राहुल गाँधी

कांग्रेस का गढ़ मानी जाने वाली वीवीआईपी सीट ‘रायबरेली’ (Raebareli) पर एक बार फिर यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) मैदान में हैं. सोनिया गांधी ने गुरुवार को रायबरेली से पर्चा भरा. इस बार सोनिया का मुकाबला पूर्व कांग्रेसी नेता और अब भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी दिनेश प्रताप सिंह (Dinesh Pratap Singh) से होगा. इस लोकसभा सीट (Raebareli lok Sabha Seat) से गांधी परिवार के फिरोज गांधी, इंदिरा गांधी तो चुनाव जीत ही चुके हैं, पिछले 2004 लोकसभा से यह सीट यूपीए अध्यक्ष और कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी के पास है. रायबरेली सीट पर इस लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election 2019) में पांचवें चरण में छह मई को मतदान है. इस दौरान पत्रकारों से बात करते हुए सोनिया गांधी ने कहा कि ‘भारतीय जनता पार्टी (BJP) को 2004 को नहीं भूलना चाहिए.’

जब पत्रकारों ने सोनिया गांधी से पूछा कि क्या पीएम मोदी अजेय हैं? तो सोनिया गांधी ने कहा बिल्कुल नहीं. यूपीए प्रमुख सोनिया गांधी ने कहा कि बीजेपी को ‘2004 को नहीं भूलना चाहिए. 2004 में अटल बिहारी वाजपेयी भी अजेय थे, लेकिन हम फिर भी जीत गए. सोनिया का निशाना भाजपा के 2004 का नारा ‘इंडिया शाइनिंग’ पर था. पांच साल के शासन के बाद चुनावों के दौरान एनडीए ने अपना यह नारा दिया था, लेकिन 2004 में भाजपा के नेतृत्व वाले एनडीए की करारी हार हुई थी और कांग्रेस के नेतृत्व वाले यूपीए ने केंद्र की सत्ता में वापसी की थी.

वहीं, राहुल गांधी ने कहा कि ‘भारतीय इतिहास में कई लोग ऐसे रहे हैं, जिन्हें यह मानने का अहंकार था कि वे अजेय हैं. वे देश के लोगों से बड़े हैं, लेकिन उन्हें यह एहसास नहीं है कि लोगों से बड़ा कोई नहीं है. मोदी जी की अजेयता इस चुनाव में पूरी तरह से दिखेगी.’ 1996, 1998 और 1999 में भाजपा सरकार का नेतृत्व करने वाले अटल बिहारी वाजपेयी को 2004 में ‘इंडिया शाइनिंग’ अभियान के दम पर जीत की भविष्यवाणी की गई थी, लेकिन उन्हें करारी हार का सामना करना पड़ा था.

उत्तर प्रदेश में 80 सीटें, 7 चरणों में मतदान
11 अप्रैल: गौतमबुद्ध नगर, कैराना, मुजफ्फरनगर, बिजनौर, मेरठ, बागपत, गाजियाबाद, सहारनपुर
18 अप्रैल: अलीगढ़, अमरोहा, बुलंदशहर, हाथरस, मथुरा, आगरा, फतेहपुर सीकरी, नगीना
23 अप्रैल: मुरादाबाद, रामपुर, संभल, फिरोजाबाद, मैनपुरी, एटा, बदायूं, आंवला, बरेली, पीलीभीत
29 अप्रैल: शाहजहांपुर, खेड़ी़, हरदोई, मिश्रिख, उन्नाव, फर्रुखाबाद, इटावा, कनौज, कानपुर, अकबरपुर, जालौन, झांसी, हमीरपुर
6 मई: फिरोजाबाद, धौरहरा, सीतापुर, माेहनलालगंज, लखनऊ, रायबरेली, अमेठी, बांदा, फतेहपुर, कौशांबी, बाराबंकी, बहराइच, कैसरगंज, गोंडा
12 मई: सुल्तानपुर, प्रतापगढ़, फूलपुर, प्रयागराज, अंबेडकर नगर, श्रावस्ती, डुमरियागंज, बस्ती, संत कबीर नगर, लालगंज, आजमगढ़, जौनपुर, मछलीशहर, भदोही
19 मई: महाराजगंज, गोरखपुर, कुशीनगर, देवरिया, बांसगांव, घोसी, सालेमपुर, बलिया, गाजीपुर, चंदौली, वाराणसी, मिर्जापुर, रॉबर्ट्सगंज

Liked it? Take a second to support द मॉर्निंग क्रॉनिकल हिंदी टीम on Patreon!




Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*