AMU के कश्मीरी छात्रों ने निकला विरोध मार्च, 1200 छात्रों ने दी यूनिवर्सिटी छोड़ने की धमकी




अलीगढ़ : अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के 1200 छात्रों ने विश्वविद्यालय प्रशासन के खिलाफ बगावती रुख अख्तियार कर लिया है। एएमयू के छात्रों ने कहा है कि प्रशासन ने कुछ स्टूडेंट्स पर गलत ढंग से कार्रवाई की है। छात्रों का कहना है कि 2 निलंबित स्टूडेंट पर लगे देशद्रोह के मुकदमे वापस नहीं होते हैं तो अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के 1200 छात्र अपनी डिग्रियां सरेंडर कर देंगे।

बीते दिनों ‘‘भारत-विरोधी’’ नारे लगाने के इल्ज़ाम और उत्तर कश्मीर में एक मुठभेड़ में मारे गये हिजबुल मुजाहिदीन के कमांडर मन्नान बशीर वानी के लिए नमाज-ए-जनाजा आयोजित करने की कोशिश का प्रयास करने के लिए तीन कश्मीरी छात्रों के खिलाफ देशद्रोह का मामला दर्ज किया गया था।



इसके अलावा एएमयू प्रशासन ने नमाज ए जनाजा पढ़ने के लिए अवैध रूप से भीड़ इकट्ठा करने के मामले में विश्वविद्यालय के नौ छात्रों को कारण बताओ नोटिस भी जारी किया था।

जिसके बाद अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) में पढ़ने वाले कश्मीरी छात्रों ने देशद्रोह का मुकदमा वापस नहीं लिये जाने की स्थिति में एएमयू छोड़ने की चेतावनी दी है। बड़ी संख्या में कश्मीरी छात्रों ने यह पत्र कल रात एएमयू के प्रॉक्टर मोहसिन खान को दिया।

इस मामले में अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) के कश्मीरी छात्रों के साथ ‘‘एकजुटता’’ दिखाने के लिए रविवार को यहां एक विरोध मार्च निकालने पर लानगेट से विधायक शेख अब्दुल राशिद को हिरासत में ले लिया गया।

हालांकि विरोध मार्च निकालने से पहले पत्रकारों से बातचीत करते हुए राशिद ने कहा कि वानी सहित किसी के लिए भी नमाज-ए-जनाजा आयोजित करना कोई अपराध नहीं है, ‘‘बल्कि यह मौलिक धार्मिक दायित्व है।’’

उन्होंने आरोप लगाया,‘‘एएमयू प्रशासन ने कश्मीरी छात्रों के खिलाफ देशद्रोह के आरोप केवल स्थानीय भाजपा नेताओं के दबाव में दर्ज किये है।’’

वहीँ समाचार एजेंसी पीटीआई के खबर के अनुसार पार्टी के एक प्रवक्ता ने बताया कि उत्तर कश्मीर की लानगेट विधानसभा सीट से विधायक राशिद ने अपनी अवामी इत्तेहाद पार्टी (एआईपी) के समर्थकों के साथ जवाहर नगर क्षेत्र में अपने आधिकारिक आवास से लाल चौक सिटी सेंटर की ओर एक विरोध मार्च निकाला।

(इनपुट पीटीआई)

Liked it? Take a second to support द मॉर्निंग क्रॉनिकल हिंदी टीम on Patreon!




Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*