नज़रिया

एक पदातिक की कलम से भारत हाहाकार पढ़िए

–पुष्पराज प्रधानमन्त्री घोषित लॉकडाउन प्रधानमंत्री जी की कृपा से डिजास्टर का रूप ले चूका है. करोड़ों मेहनतकश मजदूर, बेरोजगार, छात्र, नौजवान भरपेट रोटी–भात के लिए तड़प रहे हैं. रेल की पटरी पर रेल की बजाय […]

विशेष

गणेशशंकर विद्यार्थी का हिंदू राष्ट्र को खारिज करना किसी दूसरे धर्म का तुष्टिकरण नहीं था

गणेशशंकर विद्यार्थी का मानना था कि अच्छे आचरण वाले नास्तिकों का दर्जा धर्म के नाम पर दूसरे की आजादी रौंदने और उत्पात मचाने वालों से ऊंचा है -हेमंत कुमार पाण्डेय   ‘मैं हिन्दू-मुसलमान झगड़े की […]