विशेष

वो सत्रह लड़कियां…: कर्नल की डायरी – पन्ना 5

रंगून के दिनों की याद आज भी रोमांच से भर जाती है. आज़ाद हिन्द फ़ौज में भर्ती होने वालों का तांता लग गया था. हज़ारों युवक-युवतियों ने अपनी जिंदगी आज़ाद हिन्द फ़ौज को सौंप देने […]

विशेष

चीन हिल हाक्का: कर्नल की डायरी – पन्ना 3

आशा है कि कर्नल की डायरी का दूसरा पन्ना अच्छा लगा होगा। कर्नल की डायरी का दूसरा पन्ना आज प्रस्तुत है। 29 अगस्त, 1943. यानी आज़ाद हिन्द फ़ौज में भर्ती होने के एक महिना के बाद मुझे […]