विशेष

सत्ता का जिहाद

–समीर भारती पहले आदिवासी, फिर दलित, फिर किसान, फिर मुसलमान, दमन जारी है और दमन जारी रहेगा. जब सत्ता किसी कारण अयोग्य लोगों के हाथों आता है तो यही होता है. पहले इनका कोई नेता […]