उत्तर प्रदेश निकाय चुनावः पहले चरण में 24 जिलों में मतदान जारी, कहीं ईवीएम खराब तो कहीं भाजपा का बटन दबने का आरोप, पुलिस की लाठी भी भंजी




-द मॉर्निंग क्रॉनिकल हिंदी डेस्क

लखनऊ (उत्तर प्रदेश), 22 नवम्बर| उत्तर प्रदेश में निकाय चुनाव के प्रथम चरण का मतदान कड़ी सुरक्षा के बीच जारी है। पहले चरण के तहत उप्र के 24 जिलों में मतदान हो रहा है। बूथों के बाहर मतदाताओं की लंबी कतारें लगी है। मतदान शांतिपूर्ण तरीके से कराए जाने के मद्देनजर मंगलवार की शाम से ही जिले की सभी सीमाएं सील कर दी गई हैं। इस बीच, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गोरखपुर में अपना वोट डाला और कहा कि विपक्ष किसी भी कीमत पर नहीं जीत पाएगा। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) प्रचंड बहुमत से आएगी।



सभी 24 जिलों में बुधवार सुबह 7.30 बजे ही कड़ी सुरक्षा के बीच मतदान शुरू हो गया। बदायूं में भारी संख्या में सुबह से ही वोट डालने के लिए भीड़ जुटी हुई है। पुरुषों व महिलाओं की लंबी-लंबी लाइनें लगी हुई हैं। लोग मतदान करने के इंतजार में खड़े हैं। मतदान को लेकर सुरक्षा व्यवस्था के लिए सुबह से ही पुलिस बल तैनात है और तलाशी के बाद वोटरों को मतदान कक्ष में प्रवेश करने दिया जा रहा है।

इस चरण में राज्य के 24 जिलों श्यामली, मेरठ, हापुड़, बिजनौर, बदायूं, हाथरस, कासगंज, आगरा, कानपुर, जालौन, हमीरपुर, चित्रकूट, कौशांबी, प्रतापगढ़, उन्नाव, हरदोई, अमेठी, फैजाबाद, गोंडा, बस्ती, गोरखपुर, आजमगढ़, गाजीपुर और नक्सलवाद से प्रभावित सोनभद्र जिले में मतदान जारी है।

पहले चरण में सबसे दिलचस्प चुनाव अयोध्या नगर निगम का माना जा रहा है। समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी के रूप में मेयर पद के लिए किन्नर गुलशन बिंदु चुनावी मैदान में हैं। किन्नर के चुनाव लड़ने की वजह से अयोध्या का चुनाव लोगों के आकर्षण का केंद्र बना हुआ है। अयोध्या में पहली बार मेयर और पार्षदों का चुनाव होगा क्योंकि अयोध्या को हाल ही में नगर निगम बनाया गया है।

वहीँ अमर उजाला की रिपोर्ट के  अनुसार मतदान के बीच कई जिलों में से ईवीएम में खराबी और हंगामे की खबर भी आई। कानपुर, उन्नाव, हरदोई, जालौन, चित्रकूट, हमीरपुर में ईवीएम में खराबी के चलते हंगामा और पथराव के हालात भी हो गए जिसके चलते पुलिस को लाठीचार्ज भी करना पड़ा।

इसी रिपोर्ट के अनुसार मेरठ में बहुजन समाज पार्टी की महापौर प्रत्याशी सुनीता वर्मा बुधवार को वोट डालने के लिए पहुंचीं तो हंगामा हो गया। आरोप है कि हाथी का बटन दबाने पर बीजेपी के कमल के सामने वाली लाइट जली, लोगों ने अधिकारियों के सामने ही ईवीएम मशीन का वीडियो बनाकर उसे सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया। इसको लेकर काफी देर तक विवाद की स्थिति रही। प्रशासन के अधिकारियों ने जैसे-तैसे समझा बुझाकर मामला शांत कराया। कानपुर के नौबस्ता थाना क्षेत्र के मछरिया वार्ड-63 में दो ईवीएम मशीन खराब होने पर मतदाताओं ने हंगामा शुरू कर द‌िया। बबाल बढता देखा पुलिस ने जमकर लाठियां भांजी। कानपुर के वार्ड 104 पर एक घंटे तक मतदान रुका रहा। इवीएम मशीन में कोई भी बटन दबाने पर एक ही पार्टी को वोट जाने का आरोप लगा कर लोगों ने जमकर हंगामा काटा। पीठासीन अधिकारी को बदला गया। कानपुर के वार्ड 70 में चुनाव चिन्ह आवंटन में गड़बड़ी का आरोप लगा। घंटी वाले को मिला खड़ाऊ चुनाव चिन्ह। मेरठ के वार्ड 82 में फर्जी वोट डालने को लेकर जमकर हंगामा हुआ। तोड़फोड़ कर चुनाव में माहौल बिगाड़ने का पूरा प्रयास किया गया।

 

Liked it? Take a second to support द मॉर्निंग क्रॉनिकल हिंदी टीम on Patreon!