मोदी के रणक्षेत्र में योगी: क्या प्रधान मंत्री, अमित शाह अपने ही घर में बेकार हो गए हैं?




गुजरात में योगी आदित्यनाथ

अहमदाबाद (गुजरात), 14 अक्टूबर | गुजरात में ख़ास कर इसके औद्योगिक दक्षिण-पश्चिमी भाग में भाजपा की ओर से उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को मैदान में उतारने को लेकर राजनीति के पंडितों द्वारा अलग-अलग तरीके से व्याख्या की जा रही है।



आमतौर पर चुनाव अभियान के दौरान किसी भी राजनीतिक रैली में अन्य राज्य के मुख्यमंत्री रैली करते रहे हैं इसमें कोई नई बात नहीं है, लेकिन योगी विधानसभा चुनावों की तिथि की घोषणा होने से पहले ही इस पश्चिमी राज्य का दौरा कर रहे हैं।

क्या यह अजीब नहीं यह है कि योगी गुजरात में हैं, जबकि भाजपा अध्यक्ष अमित शाह केरल और उत्तर प्रदेश में समय बिता रहे हैं, खासकर राहुल गांधी के संसदीय क्षेत्र अमेठी में? शाह जिस तरह से यूपी में कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी को निशाना बना रहे हैं, उसी तरह से योगी गुजरात में भी अपनी शैली में उन्हें निशाना बना रहे हैं।

राजनैतिक पर्यवेक्षकों को भूमिका में इस प्रकार के फेर बदल को लेकर आश्चर्य है क्योंकि योगी के पास पिछले सात महीनों में भारत के सबसे बड़े आबादी वाले राज्य के मुख्यमंत्री के रूप में पेश करने के लिए कुछ भी नहीं है। इसके विपरीत, शिवराज सिंह चौहान और रमन सिंह ने पिछले 14 सालों से क्रमशः मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ पर शासन किया है। वे हाल के दिनों में गुजरात में किसी भी सार्वजनिक बैठक को संबोधित नहीं कर रहे हैं।

यह भी वास्तविकता है कि राजस्थान और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री के साथ साथ चौहान को भी 17 सितंबर को सरदार सरोवर बांध समारोह के लिए आमंत्रित किया गया था, लेकिन इनमें से कोई भी इस अवसर पर उपस्थित न होने का फैसला किया। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के लिए यह बहुत बड़ी शर्मिंदगी की बात थी क्योंकि वह राजनीतिक रूप से इस बांध उद्घाटन का लाभ लेना चाहते थे।

विश्लेषकों का मानना ​​है कि विकास का नारा गुजरात में काम नहीं कर रहा है और अमित शाह को उनके घर में गुस्से से भरी भीड़ का सामना करना पड़ रहा है, इसलिए इनके पास कट्टरपंथी हिंदुत्व नीति पर वापस आना ही एक मात्र विकल्प है।

इसके अलावा, योगी गुजरात का उस भाग का दौरा कर रहे हैं जहां यूपी और बिहार से मजदूर वर्ग की काफी आबादी है। आर्थिक मंदी से उनकी बड़ी संख्या, खासकर सूरत, वापी और वलसाड में, बेरोजगार हुई है। इस कारण, भाजपा के खिलाफ बेचैनी और क्रोध है।

“भाजपा का शीर्ष नेतृत्व आर्थिक मुद्दों से ध्यान भंग करना चाहता है और मतदाताओं को फिर से धर्म के पुराने मुद्दे को उठा कर लुभाने की कोशिश कर रहा है। और इस कार्य के लिए कोई भी योगी से बेहतर नहीं हो सकता होता है,” गुजरात की राजनीति के एक विशेषज्ञ का ऐसा कहना है।

भगवा पार्टी की थिंक टैंक का यह आकलन है कि पिछले 15 वर्षों में पहली बार गुजरात की अपनी जोड़ी – नरेंद्र मोदी और अमित शाह – गुजरात की जनता पर अपना प्रभाव खो रहे हैं। यही कारण है कि योगी को यूपी से आयात किया गया है। योगी के लिए ऋण चुकाने का यह बढ़िया समय है क्योंकि मोदी और शाह ने यूपी में उनकी जीत में बड़ी भूमिका निभाई थी।

इसे अंग्रेज़ी में भी पढ़ें: Yogi in Modi-land: Have PM, Amit Shah become ineffective in home-turf?

Liked it? Take a second to support द मॉर्निंग क्रॉनिकल हिंदी टीम on Patreon!