केरल: 324 मौत, लाखों बेघर, कई हज़ार करोड़ रुपये की संपत्ति बर्बाद, केंद्र सरकार की मदद नाकाफ़ी




(फ़ोटो साभार: ट्विटर)

ईश्वर का अपना देश कहा जाने वाला केरल आज भयंकर तबाही से जूझ रहा है. केरल के सभी ज़िले भयंकर बाढ़ से ग्रस्त हैं. सरकारी आंकड़ों के अनुसार अब तक 324 मौतें हो चुकी हैं. अनुमान के अनुसार 8000 करोड़ रुपए की संपत्ति बाढ़ ने बहा दिया है. लाखों लोग बेघर हो गए हैं. बाढ़ की स्थिति भयावह और हो सकती है.

केरल के मुख्य मंत्री कार्यालय ने शुक्रवार को अपने ट्वीट में अलर्ट जारी किया है. “कासरगोड के अतिरिक्त सभी ज़िले रेड अलर्ट में हैं. मौसम विभाग ने चेतावनी जारी किया है कि इन 13 जिलों को भारी बारिश प्रभावित कर सकती है. हर कोई सावधान रहें.” केरल मुख्यमंत्री कार्यालय ने ट्वीट किया है.

मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से किए गए ट्वीट में कहा गया है कि केरल 100 वर्षों में पहली बार इतनी भयानक बाढ़ से जूझ रहा है. 80 बांधों को खोल दिए गए हैं. 324 जानें जा चुकी हैं. 223139 लगभग 15 से अधिक आश्रय में रह रहे हैं. इस ट्वीट में कार्यालय की तरफ से प्रभावित लोगों के जीवन को पुनः बहाल करने के लिए मदद की भी अपील की गयी है.

केरल के मुख्यमंत्री ने आज सुबह प्रधानमंत्री मोदी से बात की और उन्हें केरल की स्थिति का पूरा ब्यौरा दिया है. इसकी सूचना मुख्यमंत्री कार्यालय ने ट्वीट कर दिया है. “मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने प्रधानमंत्री मोदी से बात की. प्रधानमंत्री मोदी ने बाढ़ की स्थिति के बारे में पूछा. कई जगहों पर बारिश तेज़ी से हो रही है और गंभीर स्थिति बनी हुई है.” ट्वीट में कहा गया.

कोच्ची हवाई अड्डे को बंद कर दिया गया है. मुख्य मंत्री लगातार प्रधानमंत्री मोदी और राजनाथ सिंह से संपर्क बनाए हुए हैं और उनसे मदद की अपील कर रहे हैं. एनडीआरएफ की टीमें पहुंची भी हैं. लेकिन आपदा को देखते हुए आपदा राहत के संसाधन बहुत कम हैं.

पूर्व प्रधानमंत्री वाजपेयी के अंतिम संस्कार के बाद प्रधानमंत्री मोदी केरल के लिए निकल चुके हैं. “राज्य में बाढ़ की स्थिति का जाएज़ा लेने के लिए केरल के लिए निकल रहा हूँ.” प्रधान मंत्री ने ट्वीट कर यह सूचना दी है.

Liked it? Take a second to support द मॉर्निंग क्रॉनिकल हिंदी टीम on Patreon!