भ्रष्टाचारी मेवा लाल सदाचारी नीतीश की कैबिनेट में




भाजपा है तो पापी कहाँ? कोई बात नहीं. अगला चुनाव फिर राजद के भ्रष्टाचार के मुद्दे पर लड़ा जाएगा और मेवालाल जीतेंगे.

नीतीश कुमार पांचवी बार मुख्यमंत्री पद की शपथ ले चुके. राजनीति के चाणक्य 43 सीट पा कर भी बिहार के सरताज बने. हमेशा की तरह ही हर बार भी उनकी और एनडीए की कथनी और करनी में अंतर रहा. पूरा कैंपेन राजद के भ्रष्टाचार पर जो बात कर रहे थे उनहोंने अपनी कैबिनेट में ऐसे शख्स को जगह दी है जिससे भ्रष्टाचार भी शर्मा जाए.

अभी तीन साल पहले पुलिस उनकी तलाश में छापेमारी कर रही थी और वह भागे भागे फिर रहे थे. जदयू ने अपनी लाज बचाने के लिए उन्हें निलंबित कर दिया था. तत्कालीन उप मुख्य मंत्री सुशिल मोदी नीतीश की इस्तोफा मांग रहे थे. हाँ, ठीक है कि उस वक्त सुशिल मोदी नीतीश के साथ सरकार में नहीं थे. नीतीश और तेजस्वी की जोड़ी थी. लेकिन भ्रष्टाचारी तो आज वही है जो कल था.

जी हाँ, यहाँ बात हो रही है डॉ मेवालाल चौधरी की. उन्होंने कल ही 15 मंत्रियों में 7वें नंबर पर मंत्री पद की शपथ ली है. उनकी भ्रष्टाचार की चर्चा आप गूगल बाबा के साथ देख सकते हैं.

मेवालाल पर घोटाले के हैं गंभीर आरोप

और बिहार की निगरानी जांच ब्यूरो ने केस दर्ज कराया था उनको भी मंत्री पद से सम्मानित किया गया है। जेडीयू के विधायक और वर्तमान में मंत्री पद की शपथ ले चुके

तारापुर से जेडीयू के दोबारा चुने गए विधायक डॉ मेवालाल चौधरी पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप हैं. चौधरी 2010-15 के बीच, सबौर कृषि विवि के वाइस चांसलर थे। इन पर जूनियर वैज्ञानिक की बहाली में धांधली और भवन निर्माण में घपला के गंभीर आरोप हैं। बिहार की निगरानी जांच ब्यूरो ने केस दर्ज कराया था और उन्हें गिरफ्तार करने के लिए पटना में कई जगह छपे भी मारे गए थे. भागते भागते चौधरी ने अंतरिम ज़मानत ले ली और आज वह मंत्री बन गए हैं.

मेवालाल चौधरी पर स्पेशल विजिलेंस ने 2017 में केस दर्ज किया था और भागलपुर के सबौर थाने में में केस दर्ज कराया गया था. उनके खिलाफ आईपीसी की धारा 409, 420, 46,7 468, 471 और 120 बी के तहत भ्रष्टाचार के मुकदमा अभी भी दर्ज है और भागलपुर के एडीजे-1 की अदालत में मामला लंबित है।

ऐसे तो मुज़फ्फरपुर शेल्टर काण्ड से जुडी मंजू देवी भी जद-यू में वापस आ गयी हैं. वह जद यू और भाजपा की संयुक्त सम्मानित सदस्य हैं. मेवालाल भी अब सम्मानित मंत्री बन गए हैं.

भाजपा है तो पापी कहाँ? कोई बात नहीं. अगला चुनाव फिर राजद के भ्रष्टाचार के मुद्दे पर लड़ा जाएगा और मेवालाल जीतेंगे.

Liked it? Take a second to support द मॉर्निंग क्रॉनिकल हिंदी टीम on Patreon!