सुकमा में नक्सलियों ने एंटी लैंडमाइन वाहन उड़ाया, 9 जवान शहीद




(चित्र साभार: NDTV)

रायपुर (छत्तीसगढ़), 13 मार्च, 2018 (टीएमसी हिंदी डेस्क) । सुकमा जिले के किस्टाराम क्षेत्र के पलोड़ी में सोमवार सुबह 11 बजे नक्सलियों ने आईईडी ब्लास्ट कर एंटी लैंडमाइन वाहन को उड़ा दिया। इसमें 212वीं वाहिनी केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के 9 जवान शहीद हो गए और 3 अन्य घायल हो गए। नक्सलियों को भी भारी नुकसान उठाना पड़ा है। बस्तर के आईजी विवेकानंद सिन्हा ने इसकी पुष्टि की है। विशेष डीजी (नक्सल ऑपरेशंस) डी.एम.अवस्थी ने कहा, “घटनास्थल पर बड़ी संख्या में सुरक्षाबल को रवाना किया गया है। यह इस इलाके की तीसरी बड़ी घटना है। घायल जवानों को हेलीकॉप्टर से रायपुर लाया जा रहा है।”



बस्तर के आईजी (नक्सल ऑपरेशंस) विवेकानंद सिन्हा ने कहा, “जवान गश्त पर गए हुए थे। इसी बीच, पहले से घात लगाए नक्सलियों ने एंटी लैंडमाइन वाहन को आईईडी ब्लास्ट से उड़ा दिया। इसके बाद जवानों पर ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी। इससे जवानों को संभलने का मौका नहीं मिला। अभी हम घायल जवानों को वहां से निकालने में लगे हुए हैं। दोनों ओर से फायरिंग जारी है। घटना स्थल से 3 किलोमीटर की दूरी पर ही सीआरपीएफ का कैंप मौजूद है।”

अवस्थी ने कहा, “3 हेलीकॉप्टरों ने घटनास्थल से जवानों को लेकर रायपुर के लिए उड़ान भर दी है। जल्दी ही ये रायपुर पहुंच जाएंगे।”

इस इलाके में ये तीसरी नक्सली वारदात है। इससे पहले 11 मार्च 2017 को भी यहां हुई मुठभेड़ में 11 जवान शहीद हुए थे। कुछ दिनों पहले ही इसी इलाके में नक्सलियों ने 27 वाहनों को फूंका था। यह सभी वाहन सड़क निर्माण में लगे हुए थे।

विस्फोट इतना भयावह था कि एंटीलैंड माइन वाहन हवा में काफी ऊंचाई तक उछल गया। इस वाहन में 11 जवान मौजूद थे।

अवस्थी ने कहा, “पिछले 2 सालों में हजारों किलोग्राम आईईडी बरामद किया जा चुका है। जिससे ये वारदात हुई वो सत्तर किलोग्राम की क्षमता वाला हो सकता है। इस इलाके में और भी लैंडमाइंस हो सकती हैं।”

पुलिस मुख्यालय में स्पेशल डीजी (नक्सल ऑपरेशंस) और पुलिस के तमाम आला अधिकारियों के साथ बैठकों का दौर जारी है।

मुठभेड़ की खबर मिलते ही मुख्यमंत्री डॉक्टर रमन सिंह ने इसकी पूरी जानकारी मांगी।

घटना को देखते हुए रायपुर के सुपर स्पेशियलिटी अस्पतालों को अलर्ट किया गया है। इनमें बेड को खाली रखने के निर्देश दिए गए हैं।

-आईएएनएस

Liked it? Take a second to support द मॉर्निंग क्रॉनिकल हिंदी टीम on Patreon!




Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*