गुंजन खेमका हत्याकांड: सहानुभूति तेजस्वी यादव को पड़ी भारी




पटना : व्यवसायी गुंजन खेमका हत्याकांड का मामला बिहार में मुद्दा बना हुआ है. सोमवार को बिहार इंडस्ट्रीज एशोसिएशन की ओर से पटना में कैंडिल मार्च निकाला गया. मार्च में व्यवसायी, उद्योग जगत से जुड़े लोग और समाजिक क्षेत्र में काम करने वाले लोग शामिल हुए, लेकिन मामले में नया मोड़ तब आ गया जब व्यवसाइयों के मार्च में शामिल होने तेजस्वी यादव पहुंच गए.



तेजस्वी यादव उद्यमियो की ओर से अपराध के खिलाफ निकाले गये कैंडल मार्च में शामिल होने पहुंचे थे, लेकिन महिला उद्यमियों ने तेजस्वी का विरोध कर दिया.

उद्यमियो का आरोप था कि उन्होंने किसी राजनीतिक दल को मार्च में शामिल होने का निमंत्रण नहीं दिया था.

हालांकि तेजस्वी यादव ने कहा कि वो राजनीति नहीं करने आये हैं. अगर एक हफ्ते के भीतर बड़े अपराधियों को गिरफ्तार नहीं किया गया तो आरजेडी आंदोलन करेगी.

कैंडल मार्च में शामिल हो रही उद्योग जगत की महिलाओं ने तेजस्वी यादव का विरोध कर दिया. इस मार्च में उनकी कोई जरूरत नहीं थी. व्यवसाइयों पर लगातार हो रहे हमले पर उद्योग जगत को इंसाफ चाहिए राजनीति नहीं. इधर तेजस्वी यादव ने कहा कि हम मामले पर राजनीति नहीं करना चाहते.

ऐसे में सरकार की चुप्पी बडे सवाल खड़े कर रही है. पूरा उद्योग जगत दहशत में है. अपराध पर उद्योग जगत की सहानुभूति हासिल करने की कोशिश तेजस्वी यादव को भारी पड़ गई.

Liked it? Take a second to support द मॉर्निंग क्रॉनिकल हिंदी टीम on Patreon!




Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*