उत्तर प्रदेश: बुलंदशहर में दो साधुओं की हत्या, राजू कुमार को पुलिस ने हिरासत में लिया




महाराष्ट्र के पालघर में चोर समझ कर दो साधुओं समेत तीन व्यक्तियों की भीड़ द्वारा पीट-पीटकर हत्या किए जाने का मामला अभी शांत नहीं हुआ था कि सोमवार देर रात उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में दो साधुओं की धारदार हथियारों से काटकर नृशंस हत्या कर दी गई. साधुओं की हत्या से ग्रामीणों में काफी रोष है.

मिली जानकारी के अनुसार बुलंदशहर के अनूपशहर कोतवाली के गांव पगोना में स्थित शिव मंदिर पर पिछले करीब 10 वर्षों से साधु जगनदास (55 वर्ष) और सेवादास (35 वर्ष) रहते थे. सोमवार की देर रात मंदिर परिसर में ही दोनों साधुओं की धारदार हथियारों से प्रहार कर हत्या कर दी गई. मंगलवार सुबह जब ग्रामीण मंदिर में पहुंचे तो उन्हें साधुओं के खून से लथपथ शव पड़े मिले. इसे देखकर कोहराम मच गया. बड़ी संख्या में ग्रामीण मंदिर पर पहुंचे.

ग्रामीणों ने इस घटना की जानकारी पुलिस को दी जिसके तुरंत बाद सीओ अनूपशहर अतुल चौबे, कोतवाल मिथिलेश उपाध्याय पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंच गए. जांच के बाद पुलिस का शक गाँव के ही राजू (कुमार) पर जा रहा है.

बुलंदशहर एसएसपी संतोष कुमार सिंह ने बताया कि अनूपशहर के पगोना गांव में 2 साधुओं की हत्या के मामले में गांव के ही एक युवक राजू कुमार को जो अनुसूचित जाति का है को नशे की हालत में पुलिस ने घटनास्थल से करीब दो किलोमीटर दूर दूसरे गांव से अर्द्धनग्न अवस्था में गिरफ्तार किया है. पुलिस उससे पूछताछ कर रही है.

बताया गया है कि 2 दिन पूर्व आरोपी युवक ने साधुओं का चिमटा गायब कर दिया था, जिसको लेकर साधुओं ने नाराजगी जताई थी. इसी बात से क्षुब्ध होकर उक्त युवक के द्वारा रात्रि में दोनों साधुओं की हत्या किए जाने की आशंका है. पुलिस मामले की गहराई से छानबीन कर रही है.

इससे पहले पालघर की घटना जिसमें दो साधू समेत तीन लोगों की चोर होने के शक में पीट पीट कर हत्या कर दी गयी थी को हिंदूवादी संगठनों ने हिन्दू-मुस्लिम का झगड़ा बता कर देश में सांप्रदायिक माहौल बिगाड़ने की कोशिश की थी जिसमें भाजपा के बड़े नेता और मीडिया के लोग शामिल थे. बाद में जब पता चला कि मारने वाले सब हिन्दू ही थे कईयों से अपने अपने ट्विटर हैंडल से अपने विवादस्पद ट्वीट को भी हटा दिया.

Liked it? Take a second to support द मॉर्निंग क्रॉनिकल हिंदी टीम on Patreon!